मराठों का उत्थान

मराठों का उत्थान

मराठों का उत्थान महाराष्ट्र में रहने वाले और मराठी बोलने वाले भारतवासी मराठा कहलाते हैं. महाराष्ट्र प्रदेश एक त्रिभुजाकार पठार और चारों ओर पहाड़ों से घिरा हुआ है. यह प्रदेश पहाड़ों, वनों और अनेक स्थानों पर ऊबड़-खाबड़ होने के कारण

Read Full Article
खेड़ा सत्याग्रह – एक किसान आन्दोलन 1918

खेड़ा सत्याग्रह – एक किसान आन्दोलन 1918

खेड़ा सत्याग्रह – एक किसान आन्दोलन 1918 आज हम खेड़ा सत्याग्रह (Kheda Movement) के विषय में पढ़ने वाले हैं. खेड़ा एक जगह का नाम है जो गुजरात में है. चंपारण के किसान आन्दोलन के बाद खेड़ा (गुजरात) में भी 1918

Read Full Article
लाला लाजपत राय का जीवन और भारतीय इतिहास में उनका स्थान

लाला लाजपत राय का जीवन और भारतीय इतिहास में उनका स्थान

लाला लाजपत राय का जीवन और भारतीय इतिहास में उनका स्थान कांग्रेस के उग्रवादी नेताओं में लाला लाजपत राय का बहुत ही महत्त्वपूर्ण स्थान है. तिलक की ही भाँति पंजाब में लाला लाजपत राय ने नयी सामाजिक और राजनीतिक चेतना

Read Full Article
बौद्ध धर्म के विषय में संक्षिप्त जानकारी

बौद्ध धर्म के विषय में संक्षिप्त जानकारी

बौद्ध धर्म के विषय में संक्षिप्त जानकारी गौतम बुद्ध का जन्म बौद्ध धर्म के संस्थापक गौतम बुद्ध थे. गौतम बुद्ध का जन्म 567 ई.पू.  कपिलवस्तु के लुम्बनी नामक स्थान पर हुआ था. इनके बचपन का नाम सिद्धार्थ था. गौतम बुद्ध

Read Full Article
बाल गंगाधर तिलक का भारतीय राष्ट्रीय आन्दोलन में योगदान

बाल गंगाधर तिलक का भारतीय राष्ट्रीय आन्दोलन में योगदान

बाल गंगाधर तिलक का भारतीय राष्ट्रीय आन्दोलन में योगदान भारत के राष्ट्रीय आन्दोलन के इतिहास में लोकमान्य बाल गंगाधर तिलक का विशिष्ट स्थान है. उग्र राष्ट्रीयता सर्वप्रथम महाराष्ट्र में प्रारम्भ हुई जो तिलक जैसे कर्मठ नेता तथा देशभक्त को पाकर

Read Full Article
बेसिन की संधि, 1802 का भारतीय इतिहास में महत्त्व

बेसिन की संधि, 1802 का भारतीय इतिहास में महत्त्व

बेसिन की संधि, 1802 का भारतीय इतिहास में महत्त्व अठारहवीं सदी के आते-आते मराठा साम्राज्य की आंतरिक एकता छिन्न-भिन्न हो गयी और विकेंद्रीकरण की शक्ति प्रबल हो गयी थी. जब मराठा संघ ऐसी बुरी स्थिति से गुजर रहा था तो

Read Full Article
बिंदुसार (298 ई.पू. – 273 ई.पू.) का जीवन

बिंदुसार (298 ई.पू. – 273 ई.पू.) का जीवन

बिंदुसार (298 ई.पू. – 273 ई.पू.) का जीवन चन्द्रगुप्त के बाद उसका पुत्र बिंदुसार (Bindusara) सम्राट बना. आर्य मंजुश्री मूलकल्प के अनुसार जिस समय चन्द्रगुप्त ने उसे राज्य दिया उस समय वह अल्प-व्यस्क था. यूनानी लेखकों ने उसे अमित्रोचेडस (Amitrochades)

Read Full Article
सिख धर्म का संक्षिप्त इतिहास और व्यापक जानकारी

सिख धर्म का संक्षिप्त इतिहास और व्यापक जानकारी

सिख धर्म का संक्षिप्त इतिहास और व्यापक जानकारी सिख धर्म के लोग गुरुनानक देव के अनुयायी हैं. गुरुनानक देव का कालखंड 1469-1539 ई. है. सिख धर्म के लोग मुख्यतया पंजाब में रहते हैं. वे सभी धर्मों में निहित आधारभूत सत्य में

Read Full Article
पबना विद्रोह 1873-76

पबना विद्रोह 1873-76

पबना विद्रोह 1873-76 19वीं शताब्दी के उत्तरार्ध में बंगाल के पबना नामक जगह में भी किसानों ने जमींदारी शोषणों के विरुद्ध विद्रोह किया था. पबना राजशाही राज की जमींदारी के अन्दर था और यह वर्धमान राज के बाद सबसे बड़ी जमींदारी थी. उस

Read Full Article
घाघरा का युद्ध

घाघरा का युद्ध

घाघरा का युद्ध आज हम घाघरा के युद्ध (Battle of Ghaghra in Hindi) के विषय में पढ़ने वाले हैं. यह युद्ध 1529 ई. में बाबर और अफगानों के बीच लड़ा गया था. यह युद्ध पानीपत युद्ध (1526) और खनवा के युद्ध (1527)

Read Full Article
प्रथम विश्वयुद्ध

प्रथम विश्वयुद्ध

प्रथम विश्वयुद्ध प्रथम विश्वयुद्ध की भूमिका (Background of First World War) 1914-18 ई. का प्रथम विश्वयुद्ध (First World War) साम्राज्यवादी राष्ट्रों की पारस्परिक प्रतिस्पर्द्धा का परिणाम था. प्रथम विश्वयुद्ध का सबसे महत्त्वपूर्ण कारण गुप्त संधि प्रणाली थी. यूरोप में गुप्त

Read Full Article
तीनों पानीपत युद्धों का संक्षिप्त विवरण

तीनों पानीपत युद्धों का संक्षिप्त विवरण

तीनों पानीपत युद्धों का संक्षिप्त विवरण तीनों पानीपत की प्रथम लड़ाई – First Panipat War पानीपत में तीन भाग्यनिर्णायक लडाईयाँ यहाँ हुई, जिन्होंने भारतीय इतिहास की धारा ही मोड़ दी. पानीपत की पहली लड़ाई -Panipat War 1 21 अप्रैल, 1526

Read Full Article
भारत के ऐतिहासिक स्थल

भारत के ऐतिहासिक स्थल

भारत के ऐतिहासिक स्थल  भारत 1. मोहनजोदड़ो (Mohenjo-daro) मोहनजोदड़ो का शाब्दिक अर्थ है मृतकों का टीला. इसे सिंध का नखलिस्तान  या सिंध का बाग़  भी कहते हैं. मोहनजोदड़ो सिंध प्रांत के लरकाना जिले (पाकिस्तान) में सिन्धु नदी के तट पर स्थित है. इसकी

Read Full Article
सम्राट अशोक के विषय में व्यापक जानकारी, कलिंग आक्रमण और शिलालेख

सम्राट अशोक के विषय में व्यापक जानकारी, कलिंग आक्रमण और शिलालेख

सम्राट अशोक के विषय में व्यापक जानकारी, कलिंग आक्रमण और शिलालेख अशोक (लगभग 273-232 ई.पू.) मौर्य वंश का तीसरा सम्राट था. मौर्य वंश के संस्थापक उसके पितामह चन्द्र गुप्त मौर्य (लगभग 322-298 ई.पू.) थे. चन्द्रगुप्त मौर्य के बाद उसका पिता

Read Full Article
बुद्ध के उपदेश

बुद्ध के उपदेश

बुद्ध के उपदेश बुद्ध ने बहुत ही सरल और उस समय बोली जाने वाली भाषा पाली में अपना उपदेश दिया था. यदि आपको परीक्षा में सवाल आये कि बुद्ध ने उपदेश किस भाषा में दिया था तो उसका उत्तर पाली

Read Full Article