हड़प्पा सभ्यता : कला और वास्तुकला एक नजर मे

हड़प्पा सभ्यता : कला और वास्तुकला एक नजर मे

हड़प्पा पूर्वोत्तर पाकिस्तान के पंजाब प्रांत का एक पुरातात्विक स्थल है। यह साहिवाल शहर से २० किलोमीटर पश्चिम मे स्थित है। सिन्धु घाटी सभ्यता के अनेकों अवशेष यहाँ से प्राप्त हुए है। सिंधु घाटी सभ्यता को इसी शहर के नाम के कारण हड़प्पा सभ्यता भी

Read Full Article
REVOLT OF 1857 INDIA:CAUSES, EFFECTS, HISTORY

REVOLT OF 1857 INDIA:CAUSES, EFFECTS, HISTORY

REVOLT OF 1857 INDIA:CAUSES, EFFECTS, HISTORY One of the important events of Indian history is the Revolt of 1857. It was the first rebellion against the East India Company which took the massive form. The main persons behind this rebellion

Read Full Article
ताजमहल से जुड़े 15 ग़ज़ब रोचक तथ्य

ताजमहल से जुड़े 15 ग़ज़ब रोचक तथ्य

ताजमहल से जुड़े 15 ग़ज़ब रोचक तथ्य आज हम बात करेगे एक ऐसी इमारत की जिसे प्यार की निशानी कहा जाता है जिसका नाम है ताजमहल. जिसे देखने के लिए दूर-दूर से लोग आते है. आज हम आपको घर बैठे

Read Full Article
आधुनिक भारत  का इतिहास

आधुनिक भारत का इतिहास

आधुनिक भारत  का इतिहास आधुनिक भारत का इतिहास स्पष्टतः दो भागों में बँटा है। 1857 का सैनिक विद्रोह अपने पीछे जिस पृष्ठभूमि को रखे हुए है वही पुस्तक के पहले भाग की विषय-वस्तु है। इसका आरम्भ डच, पुर्तगाली, अंग्रेजी, फ्रांसीसी-इन

Read Full Article
महमूद गजनी द्वारा भारत पर किये गए हमलों का विस्तृत विवरण

महमूद गजनी द्वारा भारत पर किये गए हमलों का विस्तृत विवरण

महमूद गजनी द्वारा भारत पर किये गए हमलों का विस्तृत विवरण महमूद ग़ज़नवी यमीनी वंश का तुर्क सरदार ग़ज़नी के शासक सुबुक्तगीन का पुत्र था। उसका जन्म सं. 1028 वि. (ई. 971) में हुआ, 27 वर्ष की आयु में सं. 1055 (ई.

Read Full Article
चोल साम्राज्य

चोल साम्राज्य

चोल साम्राज्य चोल साम्राज्य का अभ्युदय नौवीं शताब्दी में हुआ और दक्षिण प्राय:द्वीप का अधिकांश भाग इसके अधिकार में था। चोल शासकों ने श्रीलंका पर भी विजय प्राप्त कर ली थी और मालदीव द्वीपों पर भी इनका अधिकार था। कुछ समय तक इनका प्रभाव कलिंग और तुंगभद्र दोआब पर भी

Read Full Article
भारत में समाचार पत्रों का इतिहास

भारत में समाचार पत्रों का इतिहास

भारत में समाचार पत्रों का इतिहास भारत में समाचार पत्रों का इतिहास यूरोपीय लोगों के भारत में प्रवेश के साथ ही प्रारम्भ होता है। सर्वप्रथम भारत में प्रिंटिग प्रेस लाने का श्रेय पुर्तग़ालियों को दिया जाता है। 1557 ई. में गोवा के कुछ पादरी लोगों ने भारत

Read Full Article
जलियाँवाला बाग हत्याकांड

जलियाँवाला बाग हत्याकांड

जलियाँवाला बाग हत्याकांड जालियाँवाला बाग हत्याकांड भारत के पंजाब प्रान्त के अमृतसर में स्वर्ण मन्दिर के निकट जलियाँवाला बाग में १३ अप्रैल १९१९ (बैसाखी के दिन) हुआ था। रौलेट एक्ट का विरोध करने के लिए एक सभा हो रही थी

Read Full Article
पानीपत के युद्ध

पानीपत के युद्ध

पानीपत के युद्ध पानीपत में तीन ऐतिहासिक लड़ाईयां हुईं – पहली लड़ाई – 1526 (पानीपत का प्रथम युद्ध) दूसरी लड़ाई – 1556 (पानीपत का द्वितीय युद्ध) तीसरी लड़ाई – 1761 (पानीपत का तृतीय युद्ध) पानीपत का प्रथम युद्ध पानीपत का

Read Full Article
समुद्र मन्थन

समुद्र मन्थन

समुद्र मन्थन समुद्र मन्थन एक प्रसिद्ध हिन्दू पौराणिक कथा है। यह कथा भागवत पुराण, महाभारत तथा विष्णु पुराण में आती है। कथा श्री शुकदेव जी बोले, “हे राजन्! राजा बलि के राज्य में दैत्य, असुर तथा दानव अति प्रबल हो

Read Full Article
बिहार का इतिहास

बिहार का इतिहास

बिहार का इतिहास प्राचीन इतिहास बिहार भारत के पूर्व भाग में स्थित एक विशेष राज्य है, जो की ऐतिहसिक दृष्टिकोण से भारत का सबसे बड़ा केंद्र है, या फिर ऐसा कहना गलत नहीं होगा , की बिहार के बिना भारत

Read Full Article
Khilji dynasty – jalaluddin khilji

Khilji dynasty – jalaluddin khilji

Khilji dynasty  jalaluddin khilji khilji dynasty 1290 में शम्सुद्दीन कैमुर्स जो गुलाम वंश का अंतिम शासक था उसको मार कर जलालुद्दीन खिलजी ने खिलजी वंश की स्थापना की इसे खिलजी क्रांति भी कहा जाता है खिलजी कौन थे भारत में

Read Full Article
Shivaji Maharaj history

Shivaji Maharaj history

Shivaji Maharaj history shivaji maharaj शिवाजी उर्फ़ छत्रपति शिवाजी महाराज – Shivaji Maharaj भारतीय शासक और मराठा साम्राज्य के संस्थापक थे। शिवाजी महाराज एक बहादुर, बुद्धिमान और निडर शासक थे। धार्मिक अभ्यासों में उनकी काफी रूचि थी। रामायण और महाभारत

Read Full Article
भारत का इतिहास

भारत का इतिहास

भारत का इतिहास-: भारत के इतिहास को अगर विश्व के इतिहास के महान अध्यायों में से एक कहा जाए तो इसे अतिश्योक्ति नहीं कहा जा सकता। इसका वर्णन करते हुए भारत के पहले प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरु ने कहा था, ‘‘विरोधाभासों

Read Full Article

1857 की क्रांति : महत्त्वपूर्ण जानकारी

1857 १८५७ का भारतीय विद्रोह, जिसे प्रथम भारतीय स्वतंत्रता संग्राम, सिपाही विद्रोह और भारतीय विद्रोह के नाम से भी जाना जाता है ब्रितानी शासन के विरुद्ध एक सशस्त्र विद्रोह था। यह विद्रोह दो वर्षों तक भारत के विभिन्न क्षेत्रों में

Read Full Article

शिवाजी के उत्तराधिकारी

शिवाजी के उत्तराधिकारी मराठा साम्राज्य या मराठा संघ,जो वर्त्तमान भारत के दक्षिण-पश्चिम भाग में स्थित है,ने 1674 से 1818 ई. तक शासन किया और अपने क्षेत्र का विस्तार किया. शिवाजी को मराठा साम्राज्य का संस्थापक माना जाता है,जिन्होंने इसे संगठित

Read Full Article

भारत पर तैमूर का आक्रमण

भारत पर तैमूर का आक्रमण मध्य एशियाई देशों पर जीत हासिल करने के बाद उसने सोने की चिड़िया कहे जाने वाले भारत पर नजरें गड़ाईं। भारत में वह दिल से लूट– पाट करना चाहता था। उसकी ज्वलंत इच्छा इसलिए भी

Read Full Article

फ्रांसीसी उपनिवेश की स्थापना

फ्रांसीसी उपनिवेश की स्थापना भारत आने वाले अंतिम यूरोपीय व्यापारी फ्रांसीसी थे। फ्रांसीसी ईस्ट इंडिया कंपनी की स्थापना 1664 ई में लुई सोलहवें के शासनकाल में भारत के साथ व्यापार करने के उद्देश्य से की गयी थी। फ्रांसीसियों ने 1668

Read Full Article