पाल साम्राज्य

पाल साम्राज्य का संस्थापक गोपाल था. उसने इस साम्राज्य की स्थापना 750 ईस्वी में की की थी. वह प्रारंभ में एक सरदार था लेकिन कालांतर में बंगाल का शासक बना. वास्तव में वह बंगाल का पहला बौद्ध शासक था. गौड़

Read Full Article

कन्नौज के लिए त्रिपक्षीय संघर्ष

आठवी शताब्दी ईस्वी में कन्नौज पर अपने प्रभुत्व की स्थापना के लिए भारत के तीन क्षेत्रों मंर अपने साम्राज्य का पताका फहराने वाले साम्राज्यों के बीच संघर्ष हुआ. भारतीय इतिहास में इस संघर्ष को ही त्रिपक्षीय संघर्ष के नाम से

Read Full Article

मामलूक वंश: रजिया सुल्तान

इल्तुतमिश की मृत्यु  के बाद, रजिया दिल्ली सल्तनत की नयी सुल्तान बन गयी. लेकिन यह उसके लिए आसान नहीं था. उसके सुल्तान बनने के पीछे मुख्य कारण यह था कि इल्तुतमिश अपने सभी बेटों को सिहांसन के अयोग्य समझता था

Read Full Article

मामलुक वंश: कुतुब-उद-दीन ऐबक

कुतुब-उद-दीन ऐबक मोहम्मद गोरी का प्रमुख सिपहसालार और उसका प्रमुख दास था. उसका जन्म मध्य एशिया के तुर्की परिवार में हुआ था. वह बचपन में ही एक दास के रूप में बेच दिया गया था. मोहम्मद गोरी के वायसराय के

Read Full Article

महत्वपूर्ण राजपूत शासक

हम सभी राजपूत शब्द के बारे में भलीभांति जानते हैं. यह, केंद्रीय पश्चिमी और उत्तरी भारत के अनेक  पितृवंशीय समूहों में से एक थे. ये राजपुत भारत के अलावा पाकिस्तान के अनेक भागो में दिखाई देते हैं. भारत और पाकिस्तान

Read Full Article

मामलूक वंश: बलबन

बलबन दिल्ली सल्तनत के शासक इल्तुतमिश का एक गुलाम था और तुर्कों की प्रमुख जनजाति इल्बरी से सम्बंधित था. शुरू में वह घरेलु सेवक के रूप में दिल्ली सल्तनत में शामिल हुआ. कालांतर में वह रजिया सुल्तान का शिकारगाह बना

Read Full Article

खिलजी वंश: जलाल-उद-दीन फिरोज खिलजी

गुलाम या मामलूक  वंश भारत के शासक वंश के रूप में खिलजी वंश द्वारा विस्थापित कर दिया गया था. खिलजी वंश का संस्थापक जलाल-उद-दीन फिरोज खिलजी था. उसने गुलाम वंश के अंतिम शासक की हत्या कर दी और 70 साल

Read Full Article

अलाउद्दीन खिलजी (1296-1316)

अलाउद्दीन खिलजी का मूल नाम अली गुर्शप्प था. उसने अपने चाचा और ओहदे में ससुर जलाल-उद-दीन फिरोज खिलजी की हत्या करने के बाद 1296 ईस्वी में दिल्ली सल्तनत की गद्दी पर बैठ गया. अलाउद्दीन खिलजी दिल्ली सल्तनत के सबसे शक्तिशाली

Read Full Article

अलाउद्दीन के उत्तराधिकारी

अलाउद्दीन की मृत्यु के बाद उसका 6 वर्ष छोटा पुत्र दिल्ली की गद्दी पर मालिक काफूर के द्वारा बैठाया गया. लेकिन मालिक काफूर स्वयं सल्तनत के अमीरों के द्वारा मारा गया. अलाउद्दीन के दूसरे पुत्र मुबारक शाह ने कार्यकारी प्रमुख

Read Full Article

ग्यासुद्दीन तुगलक

ग्यासुद्दीन का असली नाम ग़ाज़ी मलिक था। वो अलाउद्दीन खिलजी का सेनानायक था। जब खुसरो ने दिल्ली की गद्दी पर कब्ज़ा किया तो गाज़ी मलिक अपने बेटे फख्र मलिक के साथ दिल्ली की ओर कूच किया । अगस्त 1321 ई

Read Full Article

मुहम्मद बिन तुगलक

मुहम्मद बिन तुगलक दिल्ली सल्तनत का बहुत ही विलक्षण एवं शानदार शासक था. वह न केवल बुद्धिमान  था बल्कि गणित और विज्ञान का जानकार था. इसके अलावा वह पर्सियन कविता का बहुत बड़ा प्रशंसक भी था. वास्तव में वह बहुत

Read Full Article

फ़िरोज़ शाह तुगलक

फ़िरोज़ शाह तुगलक 45 वर्ष की उम्र में दिल्ली सल्तनत की गद्दी पर बैठा. उसके पिता का नाम रज्ज़ब था जोकि गियासुद्दीन तुगलक का छोटा भाई था जबकि उसकी माता दीपालपुर की राजकुमारी थी. गद्दी पर बैठने के बाद उसने

Read Full Article

सैय्यद वंश

तैमूर के हमले के बाद ,1414 ई मे तुगलक वंश का अंत हो गया और खिज्र खान ने सैय्यद वंश की स्थापना की। वह तैमूर के डिप्टी के रूप मे दिल्ली की गद्दी पर बैठा। सात साल तक शासन करने

Read Full Article

लोदी वंश

लोदी वंश दिल्ली सल्तनत का आखिरी वंश था। इसकी स्थापना बहलोल लोदी ने की थी. बहलोल लोदी सैय्यद वंश के आखिरी शासक को हटाकर बहलोल लोदी ने 1451 ई मे लोदी वंश की स्थापना की. बहलोल सरहिन्द का गर्वनर रहा

Read Full Article

जहीरुद्दीन मुहम्मद बाबर

बाबर का पूरा नाम जहीरुद्दीन मुहम्मद बाबर था. वह अपनी माँ की तरफ से चंगेज़  खान और  अपने पिता की तरफ से  तैमूर का वंशज था. वह  मंगोल मूल का था जोकि बर्लास  जनजाति के थे. वह अकबर महान का

Read Full Article