राजस्थान के इतिहास की प्रमुख घटनाएं – प्रारंभ से चौदहवीं शताब्दी तक

  वर्ष महत्तवपूर्ण घटना 5000 ई.पू. कालीबंगा सभ्यता 3500 ई.पू. आहड़ सभ्यता 1000-600 ई.पू. आर्य सभ्यता 300-600 ई.पू. जनपद युग 350-600 ई.पू. गुप्त वंश का हस्तक्षेप 551 ई. वासुदेव चौहान द्वारा सांभर (सपादलक्ष) में चौहान राज्य की स्थापना 728 ई.

Read Full Article

राजस्थान: पशुधन व डेयरी विकास योजनाएं

राजस्थान पशुधन निःशुल्क दवा योजना – 15 अगस्त 2012 से प्रारंभ – उद्देश्य: राज्य के 5.67 करोड़ पशुधन (1.21 करोड़ गाएं, 1.11 करोड़ भैंसें, 2.15 करोड़ बकरियां, 1.11 करोड़ भेड़ें, 4.22 लाख ऊंट आदि) हेतु 110 आवश्यक औषधियों (पहले 87) व

Read Full Article

आमेर का किला किस प्रदेश में स्थित है?

  महाराष्ट्र राजस्थान गुजरात मध्य प्रदेश उत्तर : राजस्थान  

Read Full Article

राणा के प्रताप के प्रसिद्ध घोड़े चेतक के वंशज यहां पर तैयार किये जाने की योजना चल रही है

मनोहर थाना ✓​ बीकानेर उदयपुर सांचोर

Read Full Article

‘ट्रेवल्स इन वेस्टर्न इण्डिया’ के लेखक ने राजस्थान के इतिहास को बड़ा योगदान दिया है।

✓​ जेम्स टॉड डफ ग्रांट हरयन गोल्ज जी.एच. ट्रेबर कर्नल टॉड द्वारा भारत भ्रमण के अनुभव पर आधारित यह पुस्तक 1839 में उनकी मृत्यु (1835) के पश्चात प्रकाशित हुई थी।

Read Full Article

‘राजरत्नाकर’ के लेखक थे

जीवाधर ✓​ सदाशिव रघुनाथ कृष्ण भट्ट

Read Full Article

जयपुर की इमारतों पर गुलाबी रंग करवाने का श्रेय इन्हें दिया जाता है

सवाई मानसिंह कल्याण सिंह ✓​ सवाई रामसिंह द्वितीय मिर्जा राजा जयसिंह 1853 में जब वेल्स के राजकुमार आए तो महाराजा रामसिंह के आदेश से पूरे शहर को गुलाबी रंग से रंग जादुई आकर्षण प्रदान करने की कोशिश की गई थी। उसी के

Read Full Article

मीरा महोत्सव का आयोजन किस जिले में किया जाता है

उदयपुर में ✓​ चित्तौड़गढ़ में बांसवाड़ा में कोटा में मीरा-महोत्सव मीरा स्मृति संस्थान, चित्तौड़गढ द्वारा मीरा बाई के जन्म दिवस पर प्रत्येक वर्ष शरद पूर्णिमा से तीन दिवस के लिए मनाया जाता है।

Read Full Article

कदम्बदास या कैमास, किसके प्रमुख सहायक थे

राणा सांगा राणा कुम्भा विग्रहराज चतुर्थ ✓​ पृथ्वीराज तृतीय पृथ्वीराज चौहान का सेनापति दाहिमा वंशी कैमास  था।

Read Full Article

अलाउद्दीन खिलजी ने इस स्थान का नाम अपनी जीत पर बदलकर ‘जलालाबाद’ रख दिया था

चित्तौड़ ✓​ जालोर रणथम्भौर सिवाना

Read Full Article

छापरवाड़ा वृद्ध सिंचाई परियोजना का सम्बन्ध किस ज़िले से है ?

✓​ जयपुर उदयपुर टोंक झालावाड़

Read Full Article

प्राचीन सभ्यता ‘गिलूण्ड’ के अवशेष किस नदी के किनारे और किस जिले में मिले है ?

रूपारेल, भरतपुर ✓​ बनास, राजसमन्द लूनी, पाली खारी, भीलवाड़ा आघाटपुर-आयड़ सभ्यता का एक महत्वपूर्ण स्थान राजसमन्द जिले में गिलूण्ड है जो बनास नदी के तट पर बसा है। इस स्थान का उत्खनन सन् १९५९-६० में श्री बी.बी. लाल के निर्देशन में हुआ। तीसरा

Read Full Article

गुजरात की सीमा से सबसे नजदीक जिला मुख्यालय है –

✓​ डूंगरपुर जालोर उदयपुर सिरोही

Read Full Article

यह महल मात्र एक खम्भे पर खड़ा होने से ‘एक खम्भा महल’ कहलाया था। इस आश्चर्यजनक रचना को कहां देखा जा सकता है ?

बूंदी आमेर ✓​ मंडोर चित्तौड़

Read Full Article

झीलवाड़ा की नाल या पगल्या से कौनसे दो ज़िले जुड़ते हैं ?

नागौर-अजमेर ✓​ पाली-राजसमन्द डूंगरपुर-उदयपुर सिरोही-उदयपुर झीलवाड़ा की नाल , जिसे देसूरी की नालया पगल्या नाम से भी जाना जाता है, मेवाड़ को मारवाड़ से जोड़ती है। मुगलों के समय हल्दीघाटी के युद्ध के पश्चात् मुगलों ने अधिकांश आक्रमण इसी नाल से

Read Full Article