अकबर की मृत्यु

DoThe Best
By DoThe Best September 15, 2015 13:52

अकबर मुगल वंश का सबसे महान शासक था. उसकी मृत्यु  29 अक्टूबर 1605 ईस्वी को हुई थी. उसके निधन के बाद उसका पुत्र नुरुद्दीन सलीम जहाँगीर मुग़ल साम्राज्य का नया शासक बना.

अकबर ने दक्षिण भारत में दक्कन के भाग को छोड़कर लगभग समस्त भारत पर विजय प्राप्त कर लिया था. 1594 ईस्वी में कंधार मुग़ल साम्राज्य का हिस्सा बना दिया गया था, जबकि कश्मीर 1587 ईस्वी में मुग़ल सेना द्वारा जीता गया था.

1585 ईस्वी में उसके सबसे करीबी सहायक बीरबल की अफगान विद्रोह के दौरान मृत्यु हो गयी. इसके अलावा 1595 ईस्वी में में अकबर के कवि दोस्त फैजी की मृत्यु हो गई.
अकबर ने स्वयं अहमदनगर के मुग़ल अभियान के नेतृत्व किया जबकि विपक्ष में अहमदनगर की शासिका चाँद बीबी ने अहमदनगर की सेना का नेतृत्व किया था. जब वह दक्कन के अभियान में व्यस्त था उसी समय उसके पुत्र जहाँगीर ने उत्तर भारत में विद्रोह कर दिया और अकबर के सबसे प्रिय और नवरत्नों में से एक अबुल फज़ल की हत्या करवा दी. इस घटना के बाद अकबर को दिल को गहरा चोट पहुंचा और उसके बाद उसका स्वास्थ्य दिन-ब-दिन गिरता चला गया.

फतेहपुर सीकरी

फतेहपुर सीकरी को वर्ष 1986 में एक विश्व विरासत स्थल के रूप में महत्वपूर्ण स्मारकों की सूची के रूप में घोषित किया गया था.

1. बुलंद दरवाजा: यह अकबर के गुजरात विजय की स्मृति में वर्ष 1576-77 में बनाया गया था.
2. सलीम चिश्ती की मकबरा
3. जामा मस्जिद
4. दीवान-i-खास: यह निजी दर्शकों का कक्ष था.
5. दीवान-ए-आम: यह सार्वजनिक दर्शकों का कक्ष था.
6. पंच महल: महिलाओं के लिए निर्मित दरबार.
7. बीरबल का महल, अनूप घर और नौबत खाना (ड्रम घर).

फतेहपुर सीकरी से संबंधित प्रमुख तथ्य निम्नलिखित हैं;

1. यह मुगलों का योजनागत बनाया गया  प्रथम शहर था.
2. यह हिन्दू और फारसी स्थापत्य कला का एक संयोजन था.
3. यह 1571-1585 ईस्वी में अकबर की राजधानी था.

DoThe Best
By DoThe Best September 15, 2015 13:52
Write a comment

No Comments

No Comments Yet!

Let me tell You a sad story ! There are no comments yet, but You can be first one to comment this article.

Write a comment
View comments

Write a comment

Your e-mail address will not be published.
Required fields are marked*

sixteen − 11 =