‘मेक इन इंडिया’ पहल ने ‘फ्रॉस्ट और सुलिवान’ का आर्थिक विकास नवाचार अवार्ड 2015 जीता

DoThe Best
By DoThe Best July 16, 2015 14:03

‘फ्रॉस्ट और सुलिवान’ यूएसए ने औद्योगिक नीति एवं संवर्द्धन के लिए 2015 एशिया का प्रशांत आर्थिक विकास नवाचार: नीति और कार्यक्रम कार्यान्वयन उत्कृष्टता पुरस्कार ‘मेक इन इंडिया’ पहल को 14 जुलाई 2015 को दिया. अमेरिका स्थित विकास साझेदारी कंपनी ‘फ्रॉस्ट और सुलिवान’ विकास में तेजी लाने, नवाचार तथा नेतृत्व में ग्राहकों को सक्षम बनाता है.

यह पुरस्कार औद्योगिक नीति एवं संवर्द्धन विभाग भारत सरकार के सचिव अमिताभ कांत ने ‘फ्रॉस्ट और सुलिवान’ के ग्लोबल अध्यक्ष एवं साझेदार प्रबंधक अरूप जुत्सी से नई दिल्ली में प्राप्त किया.

यह पुरस्कार नियामक ढांचे को सरल बनाने, संपर्कता को सुदृढ करने और निवेश को प्रोत्साहित करने के लिए ‘मेक इन इंडिया’ कार्यक्रम की परिकल्पना और कार्यान्वयन उत्कृष्टता में योगदान के लिए सम्मान है.

‘मेक इन इंडिया’ कार्यक्रम के अंक 100 देशों में परिकल्पना और कार्यान्वयन पर जीआईएल सूचकांक संचालित आंकड़ें में सबसे ज्‍यादा रहे.

मूल्यांकन के दो अंतर्निहित सिद्धांत थे
सामर्थ्यवान परिकल्पना: विकास की रणनीति और परिकल्पना अनुरूपता, नीति डिजाइन, उद्योग केंद्रित और अनुदान और नवीन कार्यक्रम में एजेंसी की भूमिका.

कार्यान्वयन उत्कृष्टता: साधनों का प्रभावी तालमेल, प्रभावी कार्यक्रम समन्वय और निष्पादन, कार्यक्रम का पहुंच और उपलब्धता तथा कार्यान्वयन सफलता.

आर्थिक विकास नवाचार पुरस्कार
आर्थिक विकास नवाचार (ईडीआई) पुरस्कार फ्रॉस्ट और सुलिवान के ईडीआई कार्यक्रम के तहत दिया जाता है. यह पुरस्कार भारत में ‘मेक इन इंडिया’ का तेजी से बढ़ते घरेलू विनिर्माण क्षेत्र में उत्‍प्रेरक बनने को मान्‍यता देता है. ‘मेक इन इंडिया’ ने दुनिया भर से निवेश आकर्षित करने के लिए सरकार के लगातार प्रयासों में मदद करने के साथ प्रभावी बुनियादी सुविधाओं के कार्यक्रमों और योजनाओं पर ध्‍यान केंद्रित किया है.

‘फ्रॉस्ट और सुलिवान’
अमेरिका स्थित विकास साझेदारी कंपनी ‘फ्रॉस्ट और सुलिवान’ विकास में तेजी लाने, नवाचार तथा नेतृत्व में ग्राहकों को सक्षम बनाता है. ग्‍लोबल कंपनियों, उभरते कारोबारों और निवेशक समुदाय के साथ साझेदारी कर लाभ उठाता रहा है.

DoThe Best
By DoThe Best July 16, 2015 14:03
Write a comment

No Comments

No Comments Yet!

Let me tell You a sad story ! There are no comments yet, but You can be first one to comment this article.

Write a comment
View comments

Write a comment

Your e-mail address will not be published.
Required fields are marked*

eighteen − seven =