सिंधु नदी प्रणाली

DoThe Best
By DoThe Best July 1, 2017 12:37

सिंधु नदी प्रणाली

सिंधु नदी प्रणाली

सिंधु नदी प्रणाली दुनिया की सबसे बड़ी नदी घाटियों में से एक है जो 11, 65,000 वर्ग किलोमीटर (भारत में यह 321, 289 वर्ग किलोमीटर) के क्षेत्रों की यात्रा करती है और इसकी कुल लंबाई 2,880 किमी (भारत में 1,114 किमी) है। इंडस को सिंधु के रूप में भी जाना जाता है। यह तिब्बत में कैलाश पर्वत श्रंखला से बोखार-चू नामक ग्लेशियर (4164 मीटर) के पास तिब्बती क्षेत्र में से निकलती है।

तिब्बत में यह ‘सिंघी खमबं’ या ‘शेर का मुंह’ के नाम से जानी जाती है। लद्दाख और जास्कर सीमा के बीच उत्तर-पश्चिम दिशा में बहने के बाद यह लद्दाख और बाल्टिस्तान के माध्यम से गुजरती है। यह लद्दाख सीमा को पार करते हुए जम्मू-कश्मीर में गिलगित के पास एक शानदार गोर्ज का गठन करते हुये, दार्दिस्तान क्षेत्र में चिल्लर के पास पाकिस्तान में प्रवेश करती है।

सिंधु नदी की सहायक नदियां

सिंधु नदी श्योक, गिलगित, जास्कर, हुंजा, नुब्रा, शिगर, गस्टिंग और द्रास के रूप में हिमालय से कई सहायक नदियो को प्राप्त करती है। अंत में ये अटक के पास की पहाड़ियों से निकल आती है जहां यह अपने दाहिने किनारे पर काबुल नदी को प्राप्त करती है। सिंधु के दाहिने किनारे में शामिल होने के लिए अन्य महत्वपूर्ण सहायक नदिया है – खुर्रम , तोचि, गोमइ, वीबो और संगर है। ये सब सुलेमान पर्वतमाला में से उत्पन्न होती है। सिंधु नदी दक्षिण की ओर बहती है और ‘ पंजनद ‘ से जाकर मिल जाती है जो मिथनकोट के ऊपर है। पंजनद नाम पंजाब की पांच नदियों अर्थात् सतलुज, ब्यास, रावी, चेनाब और झेलम के लिए लिया जाता है। यह अंत में अरब सागर, (कराची के पूर्व) में मिल जाती है।

भारत में सिंधु नदी का प्रवाह

भारत में सिंधु नदी केवल जम्मू एवं कश्मीर के लेह जिले के माध्यम से बहती है। झेलम, सिंधु नदी की एक महत्वपूर्ण सहायक नदी कश्मीर की घाटी के दक्षिण-पूर्वी भाग में पीर पंजाल के पाद पर स्थित वेरीनाग से एक झरने से निकलती है। यह पहले श्रीनगर और वुलर झील के माध्यम से बहती है और फिर एक गहरी संकीर्ण कण्ठ के माध्यम से पाकिस्तान में प्रवेश करती है। यह चिनाब से पाकिस्तान में झांग के पास मिलती है। चिनाब सिंधु नदी की सबसे बडी सहायक नदी है। यह दो धाराओं- चंद्रा और भागा से बनी है जो हिमाचल प्रदेश में केलांग के पास तांडी में शामिल हो जाती है। इसलिए यह चंद्रभागा के नाम से भी जानी जाती है। पाकिस्तान में प्रवेश करने से पहले यह नदी 1,180 किमी के लिए बहती है।

रवि, सिंधु की एक अन्य महत्वपूर्ण सहायक नदी है। यह हिमाचल प्रदेश की कुल्लू की पहाड़ियों में रोहतांग दर्रे के पश्चिम से निकलती है और राज्य की चंबा घाटी के माध्यम से बहती है। पाकिस्तान में प्रवेश करने और चिनाब के पास सराय सिद्धू में शामिल होने से पहले ये पीर पंजाल और धौलाधार पर्वतमाला के दक्षिण-पूर्वी भाग के बीच बहती है। ब्यास सिंधु की एक अन्य महत्वपूर्ण सहायक नदी है जो समुद्र स्तर से ऊपर 4000 मीटर की ऊंचाई पर रोहतांग दर्रा के पास ब्यास कुंड से निकलती है। यह नदी कुल्लू घाटी के माध्यम से बहती है और धौलाधार रेंज में कटी और लर्गी के पास घाटिया बनाती है। यह पंजाब के मैदानी इलाकों में प्रवेश करती है जहां यह हरिके के पास सतलुज से मिलती है। सतलुज तिब्बत में 4555 मीटर की ऊंचाई पर मानसरोवर के निकट रकस झील से निकलती है जहां ये लंगचें खमबब के रूप में जानी जाती है। भारत में प्रवेश करने से पहले यह लगभग लगभग 400 किमी के लिए सिंधु के समानांतर बहती है और रुपर पर एक कण्ठ के रूप से बाहर आती है। यह हिमालय पर्वतमाला पर शिपकी ला के माध्यम से गुजरती है और पंजाब के मैदानी इलाकों में प्रवेश करती है। यह एक पूर्ववर्ती नदी है। यह भाखड़ा नांगल परियोजना के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण सहायक नदी के रूप में यहाँ की नहर प्रणाली को सींचती है।

DoThe Best
By DoThe Best July 1, 2017 12:37
Write a comment

No Comments

No Comments Yet!

Let me tell You a sad story ! There are no comments yet, but You can be first one to comment this article.

Write a comment
View comments

Write a comment

Your e-mail address will not be published.
Required fields are marked*

one × four =