Back to homepage

Tag "rajasthan history"

राजपूताना से प्रकाशित समाचार पत्र

राजपूताना से प्रकाशित समाचार पत्र

राजपूताना से प्रकाशित समाचार पत्र भारत में प्रिंटिंग प्रेस पर प्रथम पुर्तगाली लाए थे *देश में पहली पुस्तक 1557 में गोवा के पुर्तगाली पादरियों ने प्रकाशित की थी* भारत में ब्रिटिश ईस्ट इंडिया कंपनी ने अपनी *पहली प्रेस 1664 में बंबई में* स्थापित की

Read Full Article
Mosques in Rajasthan

Mosques in Rajasthan

Mosques in Rajasthan A mosque is a place of worship for the followers of Islam. The Arabic word masjid literally means a place of prostration. The word “masjid” dedicated for the daily five prayers and the larger masjid Jama where

Read Full Article
राजस्थान के इतिहास से संबंधित तथ्य

राजस्थान के इतिहास से संबंधित तथ्य

राजस्थान के इतिहास से संबंधित तथ्य चतुरसिंह➖ 📯मेवाड़ के महाराणा (1879-1929)है 📯जिसने सुखेर गांव में झोपड़ी में रहकर जनोपयोगी साहित्य का सृजनकिया 📯यह संस्कृत हिंदी राजस्थानी मेवाड़ीके अच्छे ज्ञाता थे *🎀शंख लिपि➖ 📯इस में प्रयुक्त *अक्षर शंख की आकृति से

Read Full Article
राजस्थान में समाज सुधार आंदोलन

राजस्थान में समाज सुधार आंदोलन

राजस्थान में समाज सुधार आंदोलन  (सती प्रथा) ✍यह प्रथा भारत के अन्य क्षेत्रों के साथ राजपूताना में भी प्रचलित थी। *मध्यकाल में मुहम्मद बिन तुगलक और अकबर ने भी इस प्रथा को रोकने का प्रयास किया।* ✍ब्रिटिश काल में सामाजिक

Read Full Article
राजस्थान के प्रमुख दुर्ग

राजस्थान के प्रमुख दुर्ग

राजस्थान के प्रमुख दुर्ग 1. माण्डलगढ़ दुर्ग: यह मेवाड़ का प्रमुख गिरी दुर्ग है। जो कि भीलवाड़ा के माण्डलगढ़ कस्बे में बनास, मेनाल नदियों के संगम पर स्थित है। इसकी आकृति कटारे जैसी है। 2. शेरगढ़ का दुर्ग (कोषवर्धन): यह बारां जिले में परमन

Read Full Article
राजस्थान में किसान आंदोलन

राजस्थान में किसान आंदोलन

राजस्थान में किसान आंदोलन यह आन्दोलन *1897-1941* तक चला  इसे भारत का *पहला अहिंसात्मक किसान आंदोलन* माना जाता है यह राजस्थान का *प्रथम संगठित किसान आंदोलन* था  बिजोलिया वर्तमान में *भीलवाड़ा* जिले में उसकी से इसे *ऊपरमाल की जागीर गांव* कहा जाता था   इस जागीर का संस्थापक *अशोक परमार*था

Read Full Article
राजपूत काल में महिलाओं का योगदान

राजपूत काल में महिलाओं का योगदान

राजपूत काल में महिलाओं का योगदान रूठी रानी*➖ *यों तो रूठी रानी के नाम से उमा दे* को जाना जाता है पर भीलवाड़ा जिले के *मेनाल में रूठी रानी का महल*स्थित है जिसके लिए माना जाता है कि यह महल रानी

Read Full Article