परमाणु ऊर्जा पर 6वां राष्ट्रीय सम्मेलन नई दिल्ली में संपन्न

DoThe Best
By DoThe Best May 16, 2015 18:15

रमाणु ऊर्जा पर 6वां राष्ट्रीय सम्मेलन नई दिल्ली में 15 मई 2015 को संपन्न हुआ. इसका आयोजन एसोचैम (The Associated Chambers of Commerce and Industry of India, ASSOCHAM) ने किया. परमाणु ऊर्जा पर 6वें राष्ट्रीय सम्मेलन की विषयवस्तु ‘परमाणु ऊर्जाः स्वच्छ ऊर्जा विकल्प’ रखा गया. सम्मेलन के दौरान परमाणु ऊर्जा से संबंधित विभिन्न मुद्दों पर चर्चा की गई तथा परमाणु ऊर्जा विस्तार, ‘मेक इन इंडिया’, जलवायु परिवर्तन और परमाणु ऊर्जा के भविष्य पर विचार व्यक्त किए गए

यह सम्मेलन ऐसे समय में आयोजित किया गया जब भाभा परमाणु अनुसंधान केन्द्र की स्थापना की हीरक जयंती मनाई जा रही है.

सम्मेलन में प्रधानमंत्री कार्यालय में परमाणु ऊर्जा विभाग एवं उत्तर-पूर्व क्षेत्र विकास, कार्मिक, लोक शिकायत एवं पेंशन, अंतरिक्ष विभाग राज्यमंत्री डॉ. जितेन्द्र सिंह, एसोचैम के पूर्व अध्यक्ष राजकुमार धूत (सांसद), परमाणु ऊर्जा आयोग के अध्यक्ष एवं परमाणु ऊर्जा विभाग के सचिव डॉ. आर.के.सिन्हा, फ्रांस के राजदूत फ्रांकोइस रिशिर, एआरईवीए इंडिया के अध्यक्ष एवं प्रबंध निदेशक इरवान हिनोल्ट, और कार्पोरेट फाइनेंस, यस बैंक के अध्यक्ष पवन कुमार अग्रवाल, भारत में कनाडा के उच्चायुक्त नादिर पटेल तथा अन्य ने हिस्सा लिया.

राज्यमंत्री डॉ. जितेन्द्र सिंह के अनुसार हमारी परमाणु नीति महात्मा गांधी के शांति एवं अहिंसा के सिद्धांतों के अनुरूप है और हम परमाणु ऊर्जा का इस्तेमाल शांतिपूर्ण उद्देश्यों के लिए करते हैं. प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के विभिन्न देशों के दौरों से हमें उन देशों से नागरिक परमाणु सहयोग में सहायता मिली है.

राज्यमंत्री डॉ. जितेन्द्र सिंह के अनुसार विभिन्न अध्ययनों से पता लगा है कि परमाणु ऊर्जा के प्रयोग से परमाणु ईकाइयों के आसपास रहने वाले लोगों के जीवन को कोई जोखिम नहीं है क्योंकि परमाणु ऊर्जा अधिक पर्यावरण अनुकूल है.

सम्मेलन के दौरान परमाणु ऊर्जा आयोग के अध्यक्ष आरके सिन्हा ने कहा कि परमाणु ऊर्जा एक स्वच्छ ऊर्जा होती है और भारत में जो प्रति व्यक्ति ऊर्जा की खपत है उसे देखते हुए परमाणु ऊर्जा एक बेहतर विकल्प है.

DoThe Best
By DoThe Best May 16, 2015 18:15
Write a comment

No Comments

No Comments Yet!

Let me tell You a sad story ! There are no comments yet, but You can be first one to comment this article.

Write a comment
View comments

Write a comment

<

4 − three =