आर्यन्स का भारत में आगमन

DoThe Best
By DoThe Best October 8, 2015 12:50

घटना क्रम

1500 B .C और 600 B .C के युग को पूर्व वैदिक युग (ऋग वैदिक काल) तथा बाद के वैदिक युग में विभाजित किया गया |

  • पूर्व वैदिक काल : 1500 B .C – 1000 B . C ; यह वह युग था जब आर्यन्स भारत पर आक्रमण कर सकते थे |
  • बाद का वैदिक युग : 1000 B . C – 600 B . C

प्रारंभिक घर व पहचान

  • आर्यन्स चरवाहे थे यानी वे खेतीबाड़ी नहीं करते थे |
  • उन्होने कई  जानवर पाले थे परंतु घोड़े इनमें सबसे महत्वपूर्ण थे |
  • आर्यन्स ने अपनी यात्रा  पश्चिम एशिया से  भारत की ओर 200 B .C के उपरान्त शुरू की |
  • आर्यन्स का पहला पड़ाव भारत की यात्रा के दौरान ईरान था |

ऋग वेद

  • यह इंडो यूरोपियन भाषा की सबसे पुरानी पुस्तक है |
  • इसमें प्रार्थना का सार- संग्रह है, इसे दस किताबों या मण्डल  में विभाजित किया  गया है |
  • इसमें प्रार्थनाओं का संकलन है जिसे विभिन्न देवता जैसे अग्नि, वरुण, इन्द्र, मित्रा, इत्यादि को समर्पित किया गया है |
  • ऋग वेद ने अपने प्रसंग अवेस्ता, ईरनियों की सबसे पुरानी किताब जिसमें ईश्वर के विभिन्न नाम तथा कुछ सामाजिक वर्गों में बांटे हैं |

वैदिक काल में नदियाँ

  • पहले, आर्यन्स पूर्वी अफ़गानिस्तान, पंजाब तथा उत्तर प्रदेश के कुछ भागों में रहते थे |
  • कुछ नदियाँ जैसे कुम्भ, सरस्वती, सिंधु, और इसकी का ऋग वेद में उल्लेख किया गया है|
  • सप्त सिंधु या सात मुख्य नदियों के समूह का भारत के ऋग वेद में उल्लेख किया गया है |
  • वे सात नदियाँ शायद इन के बीच में थीं:
    1. पूर्व में सरस्वती
    2. पश्चिम में सिंधु
    3. सतुद्रु (सतलुज)
    4. विपासा (ब्यास)
    5. असिक्नी(चेनाब)
    6. परुषनी(रावी) और
    7. वितस्ता( झेलम)

आदिवासी संघर्ष

  • आर्यन के प्रथम दस्ते ने भारत में लगभग 1500 B .C  में आक्रमण किया |
  • उन्हें भारत के मूल निवासियों जैसे दास व दस्यु से संघर्ष करना पड़ा|
  • हालांकि दास को आर्यन की तरफ से कभी भी आक्रमण के लिए उत्तेजित नहीं किया गया, पर दस्यु हत्या का ऋग वेद में बारबार उल्लेख किया गया है |
  • इन्द्र को ऋग वेद में पुरान्द्र के नाम से भी उल्लेख किया गया है जिसे किलों का भंजक भी कहा गया है |
  • पूर्व आर्यन के किलों का उल्लेख हरप्पा संस्कृति की वजह से भी किया गया है |
  • आर्यन मूल निवासियों पर इसलिए भी विजय प्राप्त कर पाये क्यूंकि उनके पास बेहतर हथियार,वरमान, तथा घोड़े वाले रथ थे |
  • आर्यन् दो तरह के संघर्षों  में व्यस्त रहे  एक तो स्वदेशी लोग व अपने आप में |
  • आर्यन को पाँच आदिवासी जातियों में विभाजित किया गया जिसे पंचजन कहा गया तथा गैर आर्यन की भी मदद प्राप्त की |
  • आर्यन गोत्र के शासक भरत व त्रित्सु थे जिन्हे वसिष्ठ पुरोहित मदद करते थे |
  • भारतवर्ष देश का नाम राजा भरत के ऊपर रखा गया

दसराजन युद्ध

  • भारत पर भरत गोत्र के राजा ने शासन किया तथा उन्हें दस राजाओं का विरोध भी झेलना पड़ा; पाँच आर्यन तथा पाँच गैर आर्यन|
  • इनके बीच में हुए युद्ध को दस राजाओं के युद्ध या दसराजन युद्ध के नाम से जाना  गया |
  • परुषनी या रावी नदी पर किया गया युद्ध सूद के द्वारा जीता गया |
  • बाद में भरत ने पुरू के साथ नाता जोड़ लिया जिससे कुरु नाम का नया गोत्र बना |

बाद के वैदिक युग में कुरु व पांचालों ने गंगा के ऊपरी पठारों की राजनीति में एक महत्वपूर्ण भूमिका अदा की जहाँ उन्होने एक साथ राज किया |

DoThe Best
By DoThe Best October 8, 2015 12:50
Write a comment

No Comments

No Comments Yet!

Let me tell You a sad story ! There are no comments yet, but You can be first one to comment this article.

Write a comment
View comments

Write a comment

<

four × five =