एक बार फिर रुलाएगा प्याज, बारिश के कारण हुई कम बुआई

DoThe Best
By DoThe Best July 15, 2015 09:46

एक बार फिर रुलाएगा प्याज, बारिश के कारण हुई कम बुआई

पिछले कुछ दिनों से एक बार फिर प्याज के दाम में तेजी देखी जा रही है। देश के प्याज की पैदावार वाले क्षेत्रों में अब तक हुई कम बारिश के कारण इसकी बुआई में कमी देखी गई है। दूसरी तरफ जमाखोर भी आवक में कमी की संभावना को देखते हुए सक्रिय हो गए हैं।

जानकारों का कहना है कि आगे प्याज के दामों में तेजी आने की संभावना है। प्याज की कीमतों में कितनी तेजी आएगी यह इस पर निर्भर करेगा कि आने वाले दिनों में बारिश कैसी होती है। इसके अलावा प्याज की नई फसल अगर मंडियों में सही समय पर नहीं पहुंच पाई तो खुदरा बाजार में प्याज के दाम एकाएक बढ़ने लगेंगे।

प्याज के दाम में तेजी को देखते हुए केंद्र सरकार ने पिछले महीने प्याज का न्यूनतम निर्यात मूल्य 250 डॉलर से बढ़ाकर 425 डॉलर प्रति टन कर दिया है। ताकि घरेलू बाजार में प्याज की आपूर्ति प्रभावित ना हो, लेकिन जमाखोरों से निपटना टेड़ी खीर है। प्याज की जमाखोरी रोकने में केंद्र सरकार से कहीं अधिक राज्य सरकार की भूमिका होती है। अगर प्रदेश स्तर पर शासन-प्रशासन जमाखोरों पर लगाम नहीं लगाती है तो प्याज की कीमतों में भयंकर तेजी देखने को मिलेगी।

सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक इस सप्ताह महाराष्ट्र की लासलगांव मंडी में प्याज की मॉडल कीमत 1,680 रुपये से बढ़कर 2,025 रुपये, दिल्ली में कीमत 1,545 रुपये से बढ़कर 1,629 रुपये और इंदौर में कीमत 1,375 रुपये से बढ़कर 1,625 रुपये प्रति क्विंटल हो चुकी है।

उद्योग संगठन एसोचैम ने बरसात के मौसम में प्याज 10-15 फीसद महंगा होने की संभावना जताई है। एसोचैम ने कहा कि मौजूदा स्तर से प्याज कीमतों में बढ़ोतरी होने का उपभोक्ता कीमत सूचकांक महंगाई पर दबाव पड़ेगा। इससे बचने के लिए एसोचैम ने समय रहते और वास्तविकता के आधार पर फसल और राज्यवार इसकी खपत की पूर्ति का आकलन करने का सुझाव दिया है।

सरकार ने स्मॉल फामर्स एग्रीकल्चर बिजनेस कंसोर्टियम, नेफेड के माध्यम से 30,000 टन प्याज का बफर स्टॉक करने का निर्णय लिया है। लेकिन देश में प्याज की खपत को देखते हुए यह मात्रा काफी कम है।

DoThe Best
By DoThe Best July 15, 2015 09:46
Write a comment

No Comments

No Comments Yet!

Let me tell You a sad story ! There are no comments yet, but You can be first one to comment this article.

Write a comment
View comments

Write a comment

<

eleven − eight =