केंद्र सरकार ने दिल्ली पुलिस रेलवे हेल्पलाइन नं. 1512 की शुरूआत की

DoThe Best
By DoThe Best July 20, 2015 10:32

केंद्रीय गृह राज्य मंत्री हरीभाई परथीभाई चौधरी ने नई दिल्ली में ‘केंद्रीयकृत दिल्ली पुलिस रेलवे हेल्पलाइन नं. 1512’ की शुरूआत 17 जुलाई 2015 को की. दिल्ली पुलिस रेलवे लाइन नं. 1512 से सभी रेलयात्रियों को लाभ होगा.

रेलयात्री अब चलती रेलगाडि़यों से नीचे उतरे बिना शिकायतें और सुझाव दर्ज करा सकते हैं. कोई व्यक्ति देश के किसी हिस्से से इस अखिल भारतीय हेल्पलाइन नंबर पर कॉल कर सकता है. फैक्स/ई-मेल पर प्राथमिकी दर्ज की जाएगी और प्राथमिकी की प्रतिलिपि फैक्स/ई-मेल/डाक द्वारा शिकायतकर्ता के पास भेजी जाएगी.

इस हेल्पलाइन के लाभ
• इस हेल्पलाइन के माध्यम से रेलवे स्टेशनों और चलती रेलगाडि़यों में यात्रियों की समस्याओं का समाधान किया जाएगा.
• पुलिस नियंत्रण कक्ष सं. 100 और दिल्ली पुलिस रेलवे की समर्पित वॉट्सऐप सं. 875081512, जिस पर संबंधित तस्वीर और वीडियो भी प्राप्त किये जा सकते हैं, पर मामले दर्ज कराये जा सकते हैं‍.
• दिल्ली पुलिस नियंत्रण कक्ष में एसटीडी सुविधायें प्रदान की गई हैं, ताकि मुसीबत में पड़े किसी व्यक्ति से संपर्क किया जा सके और राज्यों के संबंधित नियंत्रण कक्ष/थाने से बात की जा सके.
• दिल्ली पुलिस रेलवे नियंत्रण कक्ष शीघ्रतापूर्वक शिकायत स्थानांतरित करेगा, ताकि दिक्कत में पड़े यात्री की सहायता के लिए शीघ्र ही चलती रेलगाड़ी में सुरक्षाकर्मी भेजे जा सकेंगे.
• शिकायतकर्ताओं की समस्या का समाधान होने तक पुलिस अधिकारी उनके संपर्क में रहेंगे.
• दिल्ली-एनसीआर क्षेत्र में मोबाइल सेवाप्रदाताओं द्वारा उपलब्ध सेवायें प्राप्त करने वाले यात्रियों के लिए 1512 एक अखिल भारतीय नं. है.
• देश के किसी अन्य स्थान में पंजीकृत मोबाइल फोन वाले यात्रियों के लिए दिल्ली पुलिस रेलवे हेल्पलाइन तक पहुंच कायम करने हेतु IXXX-XX-1512 नं. डॉयल करना होगा.
• भारत के किसी हिस्से से किये गये फोन कॉल संबंधित राज्य सरकार रेलवे पुलिस (जीआरपी) के नियंत्रण कक्ष में प्राप्त होंगे और इसके बाद मुसीबत में पड़े व्यक्ति की समस्या का शीघ्र निदान किया जाएगा.
• इस सेवा के जरिये जीआरपी संबंधी मुद्दों के लिए एक अखिल भारतीय आधार पर एकल नंबर उपलब्ध होता है.

DoThe Best
By DoThe Best July 20, 2015 10:32
Write a comment

No Comments

No Comments Yet!

Let me tell You a sad story ! There are no comments yet, but You can be first one to comment this article.

Write a comment
View comments

Write a comment

Your e-mail address will not be published.
Required fields are marked*

four × 4 =