भारत और चीन ने द्विपक्षीय सहयोग बढ़ाने हेतु 24 समझौतों पर हस्ताक्षर किए

DoThe Best
By DoThe Best May 16, 2015 18:02

भारत और चीन ने द्विपक्षीय सहयोग बढ़ाने हेतु 24 समझौतों पर हस्ताक्षर किए

भारत और चीन ने दोनों देशों के बीच सहयोग बढ़ाने हेतु 15 मई 2015 को 24 समझौतों पर हस्ताक्षर किये.

यह समझौते भारतीय प्रधानमंत्री तथा चीन के प्रधानमंत्री ली किषयांग की उपस्थिति में बीजिंग में हुए.

इस बातचीत के दौरान सीमा विवाद, नदियों के पानी के बंटवारे, स्टेपल्ड वीजा जारी करने तथा व्यापार घाटा जैसे सभी मुद्दों पर बात की गयी.

भारत और चीन ने 10 बिलियन डॉलर यानि 63 हजार करोड़ रुपए के 24 समझौतों पर हस्ताक्षर किए. इनमें रेलवे, माइनिंग, पर्यटन, अंतरिक्ष अनुसंधान तथा वोकेशनल एजुकेशन से जुड़े समझौते भी शामिल हैं. इन समझौतों के तहत 1 जून से नाथुला से मानसरोवर का नया रास्ता खुल जाएगा. चीन भारत के चेन्नई में, जबकि भारत चीन के शेंग्दू में वाणिज्य दूतावास खोलने पर सहमत हुआ है. दूरदर्शन और सीसीटीवी के बीच साझा प्रसारण को लेकर भी समझौता हुआ है. भारत चीन में गांधी स्टडीज सेंटर और योग कॉलेज खोलेगा. साथ ही, महाराष्ट्र और गुजरात में दो इंडस्ट्रीयल पार्क खोलने को लेकर भी मंजूरी मिली है. दोनों देशों के बीच रेलवे और कौशल विकास पर भी समझौता हुआ. साथ ही, चीन ने मेक इन इंडिया में भी अहम साझीदार बनने पर सहमति जताई.

भारत तथा चीन के बीच हुए 24 समझौते

1. एजुकेशन एक्सचेंज प्रोग्राम

2. माइनिंग एंड मिनरल सेक्टर में सहयोग

3. चीन के सहयोग से अहमदाबाद में महात्मा गांधी स्किल डेवलपमेंट इंस्टीट्यूट बनाया जाएगा

4. भारत के सहयोग से चीन में योग कॉलेज खुलेगा

5. अंतरिक्ष के क्षेत्र में सहयोग

6. चीन की कम्युनिस्ट पार्टी के इंटरनेशनल डिपार्टमेंट के साथ भारतीय विदेश मंत्रालय का समझौता

7. चीन की सरकारी प्रसारण कंपनी सीसीटीवी और दूरदर्शन के बीच सहयोग

8. टूरिज्म सेक्टर में सहयोग

9. इंडिया-चाइना थिंक टैंक की स्थापना

10. भूकंप विज्ञान और इंजीनियरिंग के क्षेत्र में सहयोग

11. चीन के डेवलपमेंट रिसर्च सेंटर और नीति आयोग के बीच सहयोग

12. समुद्र विज्ञान और क्लाइमेट चेंज के क्षेत्र में सहयोग

13. चेंगडू और चेन्नई में खुलेंगे कौंसुलेट

14. ट्रेड निगोशिएशन के लिए आपसी सहयोग बढ़ाने के मद्देनजर कौंसुलेटिव मेकेनिज्म तैयार किया जाएगा

15. इम्पोर्ट क्षेत्र में सेफ्टी रेग्युलेशन

16. भू-विज्ञान के क्षेत्र में सहयोग

17. दोनों देशों के राज्यों और म्यूनिसिपैलिटीज के बीच सहयोग. इंडो-चाइना लीडर्स फोरम की शुरुआत

18. सिस्टर सिटीज चेन्नई और चेंगड़ू के बीच

19. सिस्टर सिटीज हैदराबाद और क्विंगडाऊ के बीच

20. सिस्टर सिटीज औरंगाबाद और डनहंग में बनेंगी

21. सिस्टर सिटीज कर्नाटक और सिचुआन के बीच

22. गांधीवादी अध्ययन के लिए सेंटर बनेगा

23. वोकेशनल एजुकेशन और स्किल डेवलपमेंट के क्षेत्र में सहयोग

24. रेलवे के क्षेत्र में सहयोग

दोनों पक्षों ने सभी रूपों में आतंकवाद की कड़े शब्दों में निंदा की और इसका विरोध किया तथा आतंकवाद से निपटने में सहयोग करने की वचनबद्धता को दोहराया. दोनों पक्ष आर्थिक विकास को बढ़ावा देने के लिए एशियाई बुनियादी ढांचा विकास बैंक की स्थापना की तैयारी बढ़ाने के लिए साथ मिलकर काम करने पर सहमत हो गए.

समझौतों पर हस्ताक्षर के बाद दोनों नेताओं ने साझा बयान भी जारी किया. चीन के प्रधानमंत्री ली कीचियांग ने कहा कि दोनों देशों को राजनीतिक विश्वास मज़बूत करना होगा. किचिंयाग ने कहा कि चीन और भारत एशिया के दो इंजन हैं तथा उन्हें द्विपक्षीय प्रगति के लिए साथ मिलकर कार्य करना होगा.

DoThe Best
By DoThe Best May 16, 2015 18:02
Write a comment

No Comments

No Comments Yet!

Let me tell You a sad story ! There are no comments yet, but You can be first one to comment this article.

Write a comment
View comments

Write a comment

<

4 × two =