धोनी का प्रयोग और रहाणे पर राजनीति ले डूबी टीम इंडिया को

DoThe Best
By DoThe Best October 19, 2015 13:41

धोनी का प्रयोग और रहाणे पर राजनीति ले डूबी टीम इंडिया को

भारतीय क्रिकेट टीम को दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ राजकोट वनडे में 18 रन से शिकस्त झेलनी पड़ी। 271 रन का पीछा करते हुए भारतीय टीम निर्घारित 50 ओवर में 6 विकेट खोकर 252 रन ही बना सकी। टीम इंडिया एक समय यह मैच आराम से जीतने की स्थिति में थी लेकिन आखिर में मुकाबला गंवा बैठी। आइए जानते हैं क्या कारण रहे जिनके चलते हाथ आया मैच गंवा बैठी टीम इंडिया:

“शिखर” पर नहीं धवन की फॉर्म

सलामी बल्लेबाज शिखर धवन साथी रोहित शर्मा का पूरा साथ नहीं दे पा रहे हैं। धवन अच्छी शुरूआत करने के बावजूद बड़ी पारी नहीं खेल पा रहे हैं। वे दक्षिण अफ्रीकी गेंदबाजों की उछाल और रफ्तार के चलते बेबस नजर आ रहे हैं। क्रीज पर उनके पैर नहीं चल पा रहे हैं जिसके चलते दूसरे छोर पर रोहित पर दबाव आ जाता है। इ स सीरिज में धवन को तीनों बार मोर्ने मोर्कल ने ही आउट किया। मोर्कल अपनी उछाल में धवन को फंसा देते हैं। इसके साथ ही धवन और रोहित की जोड़ी सिंगल नहीं निकाल पाई। दोनों ने पहले 10 ओवर मे 41 डॉट बॉल खेली जिससे बाउंड्री लगाने का प्रेशर बन गया।

रहाणे पर राजनीति

अजिंक्या रहाणे को भविष्य का राहुल द्रविड़ कहा जाने लगा था लेकिन अब उनके साथ जो हो रहा है उससे तो लगता है कि वे कहीं इरफान पठान न बन जाए। रहाणे सलामी बल्लेबाज के रूप में टीम में शामिल हुए लेकिन मिडिल ऑर्डर में खिलाने पर उन्होंने कोई आपत्ति नहीं जताई। पांच नंबर पर रहाणे ने सही बल्लेबाजी की और अचानक से उन्हें तीसरे नंबर पर भेज दिया गया। वहां पर वे पूरे रंग में नजर आए लेकिन कप्तान धोनी ने फिर फेरबदल किया और राजकोट में रहाणे को छठे नंबर पर भेज दिया। जब धोनी, कोहली और रैना जैसे फिनिशर ही नाकाम रहे तो रहाणे भला वहां क्या कर पाते।

धोनी-कोहली की “कछुआचाल”

राजकोट वनडे में धोनी जब बल्लेबाजी को उतरे तो टीम का स्कोर 23.1 ओवर में दो विकेट पर 113 रन था। उस समय जीत के लिए 161 गेंद में 158 रन चाहिए जो कि आसानी से बनने वाले थे। दोनों बल्लेबाज अगर हर ओवर में चार-पांच रन भी बनाते तो आसानी से यह लक्ष्य हासिल हो जाता है। लेकिन तीसरे विकेट के रूप में धोनी जब आउट हुए तो टीम का स्कोर 41.5 ओवर में 3 विकेट पर 193 रन हो गया। दोनों ने तीसरे विकेट के लिए 80 रन जोड़े लेकिन इसके लिए 112 गेंद ले ली। कोहली और धोनी ने 31 से 40 ओवर के बीच केवल 37 रन बनाए और यही सुस्ती आखिर में भारी पड़ गई।

खो गया रैना का फिनिशिंग टच

कप्तान महेन्द्र सिंह धोनी को सुरेश रैना पर काफी भरोसा है लेकिन इस सीरिज में यह भरोसा टूटता नजर आ रहा है। रैना इस सीरिज में तीन मैच में केवल 2 रन बना पाए हैं। कानुपर वनडे और राजकोट में तो उनकी पारी दो गेंद से आगे नहीं बढ़ पाई और दोनों बार इमरान ताहिर ने उन्हें खाता भी नहीं खोलने दिया। राजकोट वनडे में रैना थोड़ी देर रूकते और फिर स्लॉग करते तो शायद नतीजा कुछ और होता।

DoThe Best
By DoThe Best October 19, 2015 13:41
Write a comment

No Comments

No Comments Yet!

Let me tell You a sad story ! There are no comments yet, but You can be first one to comment this article.

Write a comment
View comments

Write a comment

Your e-mail address will not be published.
Required fields are marked*

twenty − fourteen =