आरक्षण आंदोलन: सीएम आनंदी बेन ने की लोगों से शांति की अपील

DoThe Best
By DoThe Best August 26, 2015 12:08

आरक्षण आंदोलन: सीएम आनंदी बेन ने की लोगों से शांति की अपील

इससे पहले कल गुजरात के कई शहर आरक्षण के नाम पर हिंसा के हवाले हो गए। आरक्षण की मांग पर पाटीदार यानी पटेल समुदाय की महारैली में लाखों लोगों की भीड़ के बीच उनके नेता हार्दिक पटेल ने पहले अपने भाषण से आग उगली। कल सुबह नारों और धमकियों से शुरू हुई महारैली शाम होते-होते हिंसक हो गई। अहमदाबाद के जीएमडीसी मैदान से हार्दिक पटेल ने कहा, ‘अगर सड़क पर उतर कर अधिकारों की मांग कर रहे युवाओं की मांगें पूरी नहीं हुई तो उनमें से कुछ नक्सली और कुछ आतंकी बन सकते हैं।’ हार्दिक को जबरदस्ती उठाने व पुलिस के लाठीचार्ज से नाराज पाटीदारों ने गुजरात भर में हिंसा व आगजनी की।जरात में पटेल समुदाय की ओबीसी काेटे में आरक्षण की मांग हिंसक हो गई है। समुदाय ने आज आज प्रदेश भर में बंद का आह्वान किया है। बंद को देखते हुए प्रशासन ने एहतियात के ताैर पर अहमदाबाद, सूरत, मेहसाणा, कपोदरा, राजकोट, उंझा और विसनगर के कई इलाकों में कर्फ्यू लगा दिया है और टेलीफोन व इंटरनेट सेवाओं पर रोक लगा दी गई है। 2002 के दंगे के 13 साल बाद अहमदाबाद में पहली बार कर्फ्यू लगा है। मीडिया रिपोर्टों के अनुसार स्थिति की गंभीरता को देखते हुए हिंसाग्रस्त क्षेत्रों में बीएसएफ और आरएएफ की छह कंपनियों को तैनात किया गया है। हालांकि आज सुबह से कहीं से भी हिंसा की खबर नहीं है।

केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने आज मुख्यमंत्री आनंदी बेन पटेल से फाेन पर बात की तथा राज्य में कानून व्यवस्था की समीक्षा की। उन्होंने राज्य सरकार को हरसंभव मदद का भरोसा दिया है। गृह मंत्रालय लगातार गुजरात सरकार के संपर्क में है। हिंसा से निपटने के लिए सीआरपीएफ के पांच हजार जवानों को गुजरात रवाना किया गया है। मामले में गृह राज्यमंत्री किरण रिजिजू ने कहा कि इस तरह से हिंसा भड़काना खतरनाक है। हालात राज्य सरकार के नियंत्रण में है। हम स्थिति पर पूरी नजर बनाए हुए हैं। उधर, मुख्यमंत्री आनंदी बेन ने ट्वीट कर लोगों से शांति और सौहार्द बनाए रखने की अपील की। उन्हाेंने लोगों से किसी भी प्रकार की अफवाह पर ध्यान न देने की अपील की है। मूख्यमंत्री ने पुलिस कमिश्नर से श्रृंखलाबद्ध घटनाओं की जांच के बाद दोषियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई के निर्देश दिए हैं।

उधर, सूरत में आज डायमंड बाजार बंद रहेंगे। इसके साथ ही राजकोट में स्कूल और कॉलेजों काे बंद कर दिया गया है। कपोदरा और सरधाना में हिंसा के बाद आज एतहितयात के तौर पर कर्फ्यू लगा दिया गया है। इस बीच, आंदोलन के प्रमुख नेता हार्दिक पटेल ने लोगों से शांति बनाए रखने की अपील की है। उन्होंने कहा कि हिंसा से हमारा आंदोलन कमजोर हो सकता है।

गांधीनगर, अहमदाबाद, वडोदरा, सूरत में 20 स्थलों पर बसें जलाने व 50 से अधिक मोटर साइकिल को आग के हवाले कर दिया। मुख्यमंत्री आनंदीबेन पटेल के विधानसभा क्षेत्र घाटलोडिया, गोता में बसें जलाई गईं जबकि राणिप, न्यू राणिप, गोता, वाडज, साबरमती, वालीनाथ चौक व सौराष्ट्र व वडोदरा में कई स्थानों पर हिंसा की घटनाएं हुईं। जीएसटी पर रेलवे पटरियां उखाडऩे की कोशिश हुई व रेलिंग को तोड़ा गया। सीएम के गृह जनपद मेहसाणा में कर्फ्यू लगाना पड़ा। सूरत में उपद्रवियों को देखते ही गोली मारने के आदेश दिए गए हैं। यहां भी दो थाना क्षेत्रों में कर्फ्यू है। गुजरात पुलिस का कहना है कि सभा करने के लिए समिति को शाम छह बजे तक मैदान दिया गया था। इसलिए देर शाम हार्दिक तथा उनके छह साथियों को पुलिस हिरासत में लेकर क्राइम ब्रांच ले गई थी।

इससे पूर्व, हार्दिक पटेल ने रैली को संबोधित करते हुए कहा कि बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार व आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री चंद्रबाबू नायडू भी पाटीदार ही हैं। उन्होंने कहा कि सोशल मीडिया के जरिये आंदोलन खड़ा करने का गुर उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से सीखा है जबकि इसे सफल बनाने की सीख दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल से मिली है। उन्होने कहा, वे समाज के पिछड़ों के लिए लड़ेंगे और कभी राजनीति में नहीं जाएंगे।

गुजरात सरकार की आपात बैठक

दिन में मुख्यमंत्री आनंदीबेन के सरकारी आवास पर पाटीदार आंदोलन पर आपात बैठक हुई। जिसमें सरकार ने पाटीदार सभा स्थल पर मुख्यमंत्री आनंदीबेन पटेल के 24 घंटे में खुद आकर आरक्षण का वादा करने की हार्दिक पटेल की मांग को ठुकरा दिया। सीएम आवास व मंत्री आवास की सुरक्षा बीएसएफ के हवाले की गई है।

DoThe Best
By DoThe Best August 26, 2015 12:08
Write a comment

No Comments

No Comments Yet!

Let me tell You a sad story ! There are no comments yet, but You can be first one to comment this article.

Write a comment
View comments

Write a comment

<

four × 3 =