माना पटेल और वीरधवल खाड़े को सीनियर राष्ट्रीय तैराकी चैम्पियनशिप में सर्वश्रेष्ठ तैराक चुना गया

DoThe Best
By DoThe Best November 3, 2015 12:22

महिलाओं की 50 मीटर बैकस्ट्रोक रेस में 13 माइक्रो सेकंड से अपना राष्ट्रीय रिकार्ड तोड़ने वाली गुजरात की माना पटेल को महिला वर्ग में सर्वश्रेष्ठ तैराक चुना गया. माना ने 50 मीटर बैकस्ट्रोक में 30.25 सेकंड में नया राष्ट्रीय रिकार्ड बनाया. इससे पहले माना ने वर्ष 2014 में 30.38 सेकंड का रिकार्ड बनाया था.

दूसरी ओर महाराष्ट्र के खाड़े को पुरुष वर्ग में सर्वश्रेष्ठ तैराक चुना गया. उन्होंने 100 मीटर बटरफ्लाई में एक राष्ट्रीय रिकॉर्ड के साथ, 50 मीटर फ्रीस्टाइल, 50 मीटर और 100 मीटर बटरफ्लाई स्पर्धा में तीन स्वर्ण पदक हासिल किए.

तमिलनाडु के तैराक एवी जयावीना ने 16.25 के रिकार्ड समय के साथ 100 मीटर ब्रेस्टस्ट्रोक स्पर्धा में राष्ट्रीय रिकॉर्ड बनाया. इससे पहले 16.76 उनका रिकार्ड समय था.

69वीं सीनियर राष्ट्रीय तैराकी चैम्पियनशिप की पदक तालिका में रेलवे शीर्ष स्थान पर रहा, जबकि कर्नाटक और महाराष्ट्र क्रमश: दूसरे और तीसरे स्थान पर रहे. अंक तालिका के अनुसार टीम रैंकिंग:
• रेलवे – 27 पदक (14 स्वर्ण, 9 रजत और 4 कांस्य)
• कर्नाटक – 28 पदक (9 स्वर्ण, 8 रजत और 11 कांस्य)
• महाराष्ट्र – 29 पदक (8 स्वर्ण, 11 रजत और 10 कांस्य)
• गुजरात– 14 पदक (4 स्वर्ण, 5 रजत कांस्य 5 कांस्य)

तैराकी और डाइविंग स्पर्धा में समग्र प्रदर्शन के लिए सर्वश्रेष्ठ टीम का पुरस्कार

 तैराकी  डाइविंग
 कर्नाटक  – 233 अंक

महाराष्ट्र – 232 अंक

रेलवे – 188 अंक

 सर्विसेज: 32 अंक

रेलवे: 32 अंक

वाटरपोलो स्पर्धा

 पुरुष  महिला
 रेलवे: 13

सर्विसेज: 8

 केरल: 4

महाराष्ट्र : 2

प्रतियोगिता में कर्नाटक की टीम को समग्र प्रदर्शन के लिए सर्वश्रेष्ठ टीम चुना गया.

सीनियर राष्ट्रीय तैराकी चैम्पियनशिप
69वीं सीनियर राष्ट्रीय तैराकी चैंपियनशिप 2015 राजकोट में आयोजित की गई. पांच दिन तक चलने वाले इस प्रतियोगिता में देश भर के 700 तैराकों ने भाग लिया.

यह प्रतियोगिता संयुक्त रूप से भारतीय तैराकी महासंघ (एसएफआई) और गुजरात स्टेट जलीय एसोसिएशन (जीएसएसए) द्वारा आयोजित की गई. राजकोट नगर निगम (आरएमसी) और राजकोट जिला तैराकी संघ ने इस प्रतियोगिता की मेजबानी की.

DoThe Best
By DoThe Best November 3, 2015 12:22
Write a comment

No Comments

No Comments Yet!

Let me tell You a sad story ! There are no comments yet, but You can be first one to comment this article.

Write a comment
View comments

Write a comment

Your e-mail address will not be published.
Required fields are marked*

13 + seven =