बिहार में बोले अरविंद केजरीवाल, ठीक नहीं है विकास में राजनीति का अड़ंगा

DoThe Best
By DoThe Best August 27, 2015 12:27

बिहार में बोले अरविंद केजरीवाल, ठीक नहीं है विकास में राजनीति का अड़ंगा

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार एक मंच पर पहुंच चुके हैं। बिहार लोक सेवा अधिनियम 2011 के ‘कुशल लोक सेवा प्रणाली से नागरिकों का सशक्तीकरण’ विषयक सेमिनार में केजरीवाल मुख्य अतिथि हैं। सेमिनार में उन्होंने नीतीश कुमार के सुशासन की तारीफ की। उन्होंने केंद्र के बिहार को सवा लाख करोड़ के पैकेज को आड़े हाथों लिया।

सेमिनार की अध्यक्षता मुख्यमंत्री नीतीश कुमार कर रहे हैं। कार्यक्रम के शुरुआत में लोक सेवाओं पर आधारित लघु फिल्म चलाई गई। सेमिनार के विषय से उपस्थित लोगों का परिचय कराने के बाद आरटीआइ एक्टिविस्ट सुभाष चंद्र अग्रवाल ने कहा कि अपने अधिकारों के प्रति लोगों को जागरूक रहना चाहिए।

मुख्य अतिथि के रूप में दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने इतने अच्छे टॉपिक पर सेमिनार रखने के लिए बिहार सरकार को बधाई दी। उन्होंने कहा कि नीतीश कुमार के नेतृत्व में जो बिहार में सुशासन दिखा उसकी गूंज आज भी सुनाई दे रही है। 11 करोड़ लोग अब तक बिहार लोक सेवा अधिनियम का फायदा उठा चुके हैं, यह जानकर खुशी हुई। इस कार्यक्रम को बेहतर तरीके से लागू किया गया इसके लिए सभी को बधाई।

उन्होंने कहा, दिल्ली में अपने स्तर पर एक शुरुआत की है। सर्टिफिकेट्स बनवाने के लिए लोगों को बहुत परेशानी होती थी। गरीबों को दलालों का सहारा लेना पड़ता था। सभी सर्टिफिकेट्स बनवाने की प्रक्रिया को आसान कर दिया। जिन कागजों के बगैर भी कार्य हो सकता है, उनको लागू किया। अब दिल्ली में सर्टिफिकेट्स के लिए दफ्तर आने की जरूरत नहीं। साइबर कैफे से अप्लाई करके आसानी से कोई भी बनवा सकता है।

दिल्ली के अंदर हमें 70 में 67 सीटें क्यों आई इसे भी देखना होगा। मौजूदा सिस्टम से लोग त्रस्त हो चुके हैं।

दिल्ली में बिजली की मांग बहुत बड़ा पॉलिटिकल मुद्दा है। मिडिल क्लास के लोगों का 10 हजार तक बिल आने लगा। हमने कहा, हमारी सरकार बनी तो बिजली का बिल आधी कर देंगे। सभी विश्वास नहीं कर रहे थे, विपक्षी पार्टियां बोलती थी कि कहां से बिजली लाएंगे। 83 फीसद लोग केवल 12 सौ करोड़ रुपये खर्च कर बिजली की समस्या दूर करने के लिए।

केजरीवाल ने कहा, हमारी सरकार आई तो बिजली कंपनियों के रिकॉर्ड चेक करवाए। इसके बाद सीएजी से भी जांच करवाई। अगर सीएजी की रिपोर्ट आई तो रेट और कम हों जाएंगे। बिजली को लेकर भी काफी दिक्कत थी। हमने पता किया तो जानकारी हुई 20000 लीटर पानी की जरूरत न्यूनतम हर परिवार को होती है। हमने इतनी मात्रा को फ्री कर दिया।

उन्होंने कहा, दफ्तर में बैठकर पता नहीं चल सकता कि जनता की क्या जरूरत है। हमने मुहल्ले में जाने का अभियान चलाया। केंद्र सरकार के पास पैसे की कमी नहीं है, उनकी नीयत में कमी है।

अगर सरकार को करना होता तो कभी लाइब्रेरी न बनवाती, हमने महसूस किया आज की जरूरत है ये। दिल्ली में अब कई लाइब्रेरी बनवा रहा हूं।

सरकार बनने के तीन-चार महीने तक हमने कैंपेन चलाया। अगर कोई पैसे मांगे तो मना न करो, उसका स्टिंग करो और हमें बताओ। चार माह में 60-70 फीसद सरकारी कर्मचारियों व अधिकारियों ने पैसे लेने बंद कर दिए।

दिल्ली में ईमानदार अधिकारियों की कमी है। मैंने नीतीश जी से कहा तो उन्होंने सप्ताह भर में हमारी मदद की और यहां से अधिकारी दिए। दिल्ली सरकार का एंटी करप्शन ब्रांच है, केंद्र सरकार ने वहां अपना अफसर भेज दिया। हम लड़ तो सकते नहीं उनके साथ। एंटी करप्शन ब्रांच को पैरा मिलिट्री फोर्स बना दिया। दिल्ली पुलिस के हवाले कर दिया। हमारी कार्रवाई से डर गई थी केंद्र सरकार जिसकी वजह से ऐसा कदम उठाया।

उन्होंने कहा, 500 स्कूल बनाने का वादा किया था एक साल में ही 236 स्कूल बना दिए। जितने वादे किए थे सारे पूरे किए। केंद्र की सरकार आई तो बड़ी उम्मीदें थी। लोगों में और युवाओं को बहुत उम्मीद थी। काला धन लाने को कहा था, अभी तक तो कुछ नहीं किया गया।

केंद्र सरकार के लिए उन्होंने कहा, आप कालाधन ला नहीं पा रहे कोई बात नहीं, लेकिन इस दिशा में कुछ काम तो होना चाहिए। उन्होंने कहा, युवाओं को देखना है योगा करने के लिए वोट देना है या काला धन लाने के लिए। सौ करोड़ रुपये स्वच्छ भारत के प्रचार में खर्च कर दिए। आप बताइए, अगर एक गली में भी इसका असर दिखा हो।

एफटीआई इंटरनेशनल स्कूल है, वहां पढ़ने वाले युवा परेशान है। सरकार उनकी ओर भी ध्यान नहीं दे रही।

भूमि अधिग्रहण किसानों के खिलाफ है। दिल्ली के अंदर किसानों को 52 लाख रुपये प्रति एकड़ के हिसाब से मुआवजा मिलता था, मैंने उसे सात गुना कर दिया। जब अधिग्रहण होगा साढ़े तीन से चार करोड़ रुपये प्रति करोड़ मुआवजा दिया जाएगा।

लोगों के अंदर बात फैल चुकी है कि केंद्र की सरकार एंटी पुअर है। किसान विरोधी है। आज अगर दिल्ली में चुनाव हो जाए तो दावा है कि 70 में से 70 सीटें मिलेंगी। हम किसी एक के लिए कार्य नहीं करते, गरीबों के लिए हमारी सरकार कार्य कर रही है।

उन्होंने कहा, हम राजनीति करते है, चुनाव के पहले राजनीति करते हैं। चुनाव के बाद देश के विकास के लिए केंद्र व राज्य के बीच समन्वय होना चाहिए। लेकिन पिछले छह माह में केंद्र सरकार दिल्ली सरकार के कार्यों में जैसे रोक लगा रही है वह विकास में ठीक नहीं है।

उन्होंने कहा, 26 नवंबर को मुम्बई में हमला नहीं हुआ था वो देश के ऊपर हमला किया गया था। एक कमांडो की सुनने की क्षमता चली गई। हमने उसे अपनी टीम में शामिल किया, केंद्र सरकार ने हटा दिया था।

नकारात्मक राजनीति को लोग नकार चुके हैं। लोग सकारात्मक राजनीति चाहते हैं। बिहार में इस देश को कितने अच्छे-अच्छे लोग दिए हैं। बिहार ने देश को बहुत कुछ दिया है, महापुरुषों की जमीन है ये।

…………….

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल सुबह 8.50 बजे पटना एयरपोर्ट पर पहुंचे। उनके स्वागत को आम आदमी पार्टी के कार्यकर्ता उमड़ पड़ेे। एयरपोर्ट पर उन्हें अन्ना हजारे के समर्थकों ने काले झंडे दिखाए गए। वहां अन्ना व केजरीवाल समर्थक भिड़ गए।

अन्ना हजारे की समर्थक पूनम सिसोदिया सहित कई अन्य ने काले झंडे दिखाए। पूनम सहित दो को हिरासत में लिया गया है। पूनम ने कहा कि केजरीवाल ने अन्ना का साथ छोड़ दिया, इसलिए उसने काला झंडा दिखाया।

इसके बाद अरविंद केजरीवाल स्टेट गेस्ट हाउस पहुंचे। वहां केजरीवाल से मिलने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार गए। मुख्यमंत्री बनने के बाद केजरीवाल का यह पहला बिहार दौरा है।

देखें : पटना एयरपोर्ट पर केजरीवाल को किसने दिखाए काले झंडे

सेमिनार में राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद के नहीं रहने पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह ने ट्वीट कर कहा कि लालू पहले महागठबंधन के पोस्टर से आउट हुए, अब केजरीवाल के कार्यक्रम से भी नीतीश ने उन्हें आउट कर दिया है। ये बातें महागठबंधन में लालू प्रसाद व आरजेडी के सफोकेशन के बारे बताती है।

पढ़ें : कांग्रस और लालू से अभी दूर रहेंगे केजरीवाल

सेमिनार के बाद दोपहर में केजरीवाल बोधगया जाएंगे। उनके साथ मुख्यमंत्री नीतीश कुमार भी होंगे। अपराह्न 02.30 बजे वे गया के लिए रवाना होंगे। बोधगया के महाबोधि मंदिर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के साथ जाएंगे। शाम को पटना लौटने के बाद केजरीवाल वापस दिल्ली रवाना हो जाएंगे। इस बीच वे दोपहर को भोजन राजकीय अतिथिशाला में नीतीश कुमार के साथ करेंगे।

DoThe Best
By DoThe Best August 27, 2015 12:27
Write a comment

No Comments

No Comments Yet!

Let me tell You a sad story ! There are no comments yet, but You can be first one to comment this article.

Write a comment
View comments

Write a comment

<

nineteen − 12 =