1 जुलाई से रेलवे में कई बदलाव, राजधानी एक्सप्रेस में अब सिर्फ पेपरलेस टिकट

DoThe Best
By DoThe Best June 12, 2015 11:15

1 जुलाई से रेलवे में कई बदलाव, राजधानी एक्सप्रेस में अब सिर्फ पेपरलेस टिकट

राजधानी और शताब्दी एक्सप्रेस जैसी ट्रेनों में पेपरलेस मोबाइल टिकटिंग की व्यवस्था लागू होगी। यानी, इन ट्रेनों में सफर करनेवाले यात्रियों को कागज पर छपे हुए टिकट नहीं मिलेंगे। टिकट उनके मोबाइल पर रहेगा। यह व्यवस्था एक जुलाई से लागू हो सकती है। इसके अलावा मल्टी लिंगुअल रिजर्वेशन टिकट और सुविधा ट्रेन शुरू करने के साथ ही कुछ महत्वपूर्ण ट्रेनों के बदले उस नाम की डुप्लीकेट ट्रेन चलाने की भी योजना है। यही नहीं, तत्काल टिकट रिफंड कराने पर किराए की 50 फीसदी राशि रिफंड होगी। साथ ही तत्काल टिकट बुकिंग के समय में भी बदलाव किया गया है।
पूर्व मध्य रेल के सीपीआरओ अरविंद कुमार रजक के अनुसार एसी और स्लीपर श्रेणियों की टिकट बुकिंग अलग-अलग समय पर शुरू होगी। एसी कोच के लिए टिकट बुकिंग सुबह 10 बजे से और स्लीपर श्रेणी के लिए तत्काल टिकट 11 बजे से मिलेगा। यह बदलाव 15 जून से होगा। साथ ही सुबह आठ बजे से 8.30 बजे तक प्राधिकृत रेलवे एजेंटों के लिए सामान्य टिकट बुकिंग पर रोक होगी। यानी, सुबह 10 से 11 बजे के बीच सिर्फ एसी कोच में सीटें बुक की जा सकेंगी। इसके बाद सुबह 11 से 12 बजे के बीच स्लीपर कोच के लिए तत्काल टिकटों की बुकिंग होगी।
कैसे काम करेगा पेपरलेस टिकटिंग सिस्टम
रेलवे बोर्ड के मेंबर के मुताबिक, पेपरलेस मोबाइल टिकटिंग की सुविधा का फायदा उठाने के लिए सेंटर फॉर रेलवे इन्फॉर्मेशन सिस्टम (सीआरआईएस) की ओर से विकसित किए गए ऐप को अपने फोन पर डाउनलोड करना होगा। पेपरलेस टिकटिंग धीरे-धीरे रिजर्व्ड और अनरिजर्व्ड-दोनों श्रेणियों में लागू की जाएगी। लेकिन सबसे पहले शताब्दी और राजधानी ट्रेन में लागू होगी। मोबाइल ऐप के जरिए इस सुविधा को देने से पहले रेलवे रिजर्वेशन वाले टिकट के कैंसिल कराए जाने पर पैसे वापस करने के उपायों की भी समीक्षा कर रहा है। यह योजना शुरू होने के बाद रेलवे 600 टन कागज की बचत कर सकेगा, जो प्रिंटेड टिकट देने और रिजर्वेशन चार्ट बनाने में इस्तेमाल होता है।
DoThe Best
By DoThe Best June 12, 2015 11:15
Write a comment

No Comments

No Comments Yet!

Let me tell You a sad story ! There are no comments yet, but You can be first one to comment this article.

Write a comment
View comments

Write a comment

<

4 × 5 =