अजन्मा आज लेगा जन्म, छाया उल्लास

DoThe Best
By DoThe Best September 5, 2015 11:03

अजन्मा आज लेगा जन्म, छाया उल्लास

श्रीकृष्ण जन्माष्टमी शनिवार को है। अजन्मा फिर जन्म लेगा। इस पावन मौके पर तीनों लोक ब्रज पर बलिहारी हो रहे हैं। बैकुंठ की भव्यता ब्रज के आगे फीकी पड़ रही है। शनिवार को होने वाले पर्व को लेकर ब्रज फूला नहीं समा रहा। हर ओर से आस्था समंदर उमड़ रहा है।

शनिवार को जन्मभूमि, तमाम मंदिरों और घर-घर में गोपाल प्रकट होंगे। जन्म की खुशी में झूमने के लिए समूचा ब्रजमंडल तैयार है। जन्मोत्सव की पूर्व संध्या पर भजन-संकीर्तन के बीच भगवान श्रीराधा-कृष्ण को ‘चंद्रकी’ पोशाक धारण करा दी गई। शनिवार को दिव्य शहनाई के साथ जन्मोत्सव का उल्लास चरम की ओर बढऩे लगेगा। शुक्रवार को जन्मस्थान पर दर्शन करने के लिए आस्था हिलोरें मारती रही। दिन भर श्रद्धालुओं का आवागमन बना रहा और कतारें लगी रहीं। कान्हा के जन्म के समय ब्रज के वैभव का नजारा देखने के लिए देवता भी लालायित हैं। दिव्य जन्म महाभिषेक के लिए अद्भुत मंच तैयार किया गया है। कमल पुष्प पर स्थापित चांदी की चौकी पर विराजमान ठाकुरजी के चल विग्रह ऐसे प्रतीत होंगे, जैसे कमल की प्रत्येक पंखुड़ी असंख्य भक्तों के साथ-साथ ठाकुरजी के स्वरूप को निहार रही है।

सुबह से ही होंगे आयोजन

श्रीकृष्ण जन्मस्थान पर जन्म महाभिषेक का कार्यक्रम रात्रि 11 बजे श्री गणेश-नवग्रह आदि के पूजन से शुरू होगा। रात्रि 11.55 तक पुष्प सहस्रार्चन होगा। रात्रि 12 बजे भगवान के प्राकट््य के साथ मंदिर परिसर में ढोल, नगाड़े, झांझ-मजीरे, मृदंग और हरिबोल के साथ भक्तजन नाच उठेंगे। जन्म की महाआरती शुरू होगी, जो रात्रि 12.10 बजे तक चलेगी। भगवान का जन्म महाभिषेक रात्रि 12.15 से 12.30 बजे तक होगा। 12.40 से 12.50 तक भक्तों को श्रृंगार आरती के दर्शन होंगे। श्रृंगार आरती के बाद भगवान श्रीकृष्ण को अर्पित 1008 कमलपुष्प भागवत भवन में उपस्थित भक्तों को रात्रि एक बजे तक वितरित किए जाएंगे। रात्रि 1.28 से रात्रि 1.30 बजे तक ठाकुरजी की शयन आरती होगी।

DoThe Best
By DoThe Best September 5, 2015 11:03
Write a comment

No Comments

No Comments Yet!

Let me tell You a sad story ! There are no comments yet, but You can be first one to comment this article.

Write a comment
View comments

Write a comment

<

four + three =