मोहन भागवत ने की मोदी सरकार की जमकर तारीफ, दूरदर्शन ने फिर दिखाया लाइव

DoThe Best
By DoThe Best October 22, 2015 12:20

मोहन भागवत ने की मोदी सरकार की जमकर तारीफ, दूरदर्शन ने फिर दिखाया लाइव

केंद्र की सत्ताधारी बीजेपी की आइडियोलॉजिकल बॉडी आरएसएस के प्रमुख मोहन भागवत ने गुरुवार को दशहरे के मौके पर स्वयंसेवकों को संबोधित किया। इस मौके पर केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी और सीएम देवेंद्र फडणवीस भी पहुंचे। गडकरी और फडणवीस खाकी पैंट और काली टोपी में मंच पर नजर आए। संघ प्रमुख ने मोदी सरकार की तारीफ करते हुए कहा कि देश में माहौल बदला है। जनता में सरकार को लेकर भरोसा बढ़ा है।
दूरदर्शन ने किया लाइव टेलिकास्ट
सरकारी चैनल दूरदर्शन पर संघ प्रमुख की स्पीच का लाइव टेलिकास्ट किया। बता दें कि ऐसा पिछले साल भी हुआ था, जिसके बाद कांग्रेस ने आपत्ति की थी। हालांकि, बीजेपी प्रवक्ता शाहनवाज हुसैन ने कहा कि अगर प्राइवेट चैनल्स संघ प्रमुख की स्पीच को लाइव दिखा सकते हैं तो दूरदर्शन ऐसा क्यों नहीं कर सकता?
मोहन भागवत की स्पीच के अहम बिंदु
>देश में 2 साल पहले की निराशा खत्म हो रही है। अब कुछ अच्छा होगा, जनता में ऐसा विश्वास आ रहा है।
> डेढ़ साल में भारत ने विदेशों से बेहतर ढंग से रिश्ते कायम किया है।
> विदेशों में भारत की इज्जत बढ़ रही है। योग और गीता की दुनिया में चर्चा हो रही है।
>मुद्रा बैंक, जन धन, एलपीजी सब्सिडी, स्वच्छ भारत और स्किल डेवलपमेंट सकारात्मक कोशिश है।
>सिर्फ नीति बनाने से काम नहीं चलेगा, उसे लागू किए जाने पर नजर रखना और फीडबैक लेना भी जरूरी है। विकास की राजनीति ही काफी नहीं है।
> जनसंख्या बढ़ने को लेकर कई बातों पर ध्यान देना जरूरी है। देश के हित के लिए एक समान नीति लागू होनी चाहिए।
>पूरे समाज को एक दूसरे की ताकत बननी होगी और सभी धर्मों को आपस में नजदीकी बनाए रखनी होगी।
>हिंदुत्व ने देश को जोड़कर रखा है। समाज से छेड़छाड़ न हो, संवाद होना चाहिए।
>रावण भी बहुत बड़े साम्राज्य का शासक था पर कोई भी रावणराज की बात नहीं करता है, रामराज्य की बात करते हैं।
>रावण की मौत के समय लक्ष्मण जी को राम जी ने भेजा कि राज्य कैसे चलाना है, उसकी विद्या सीखो।
>अहम बात यही है कि भारत को दुनिया में सिरमौर कैसे बनाएं।
>विकसित भारत के लिए लोगों को मानसिक दासता से आजाद होना होगा। नेताओं को, प्रशासन को, सबको इस बारे में सोचना होगा।
DoThe Best
By DoThe Best October 22, 2015 12:20
Write a comment

No Comments

No Comments Yet!

Let me tell You a sad story ! There are no comments yet, but You can be first one to comment this article.

Write a comment
View comments

Write a comment

Your e-mail address will not be published.
Required fields are marked*

five × two =