सौर प्रणाली

DoThe Best
By DoThe Best May 16, 2015 17:36

सौर मंडल सूर्य और उन सभी पदार्थों को संगठित करता है जो इसका चक्कर प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष रूप से लगाते रहते हैं. इन पदार्थों के अंतर्गत धूमकेतु और क्षुद्रग्रहों की तरह ग्रहों, बौने ग्रहों और छोटे सौर प्रणाली से सम्बंधित निकायों को शामिल किया जाता हैं. सूरज और उसके ग्रहीय मण्डल को मिलाकर हमारा सौर मण्डल बनता है.  इन पिंडों में आठ ग्रह, उनके 166 ज्ञात उपग्रह, पाँच बौने ग्रह और अरबों छोटे पिंड शामिल होते हैं.

सौर प्रणाली की संरचना

सौर मंडल का मुख्य भाग सूर्य होता है. सूर्य अपने ज्ञात द्रव्यमान का 99.86% होता है और इसकी गुरुत्वाकर्षण शक्ति इस पर हावी होती है. सूर्य की चार गैस से बने गृह (बृहस्पति, शनि, यूरेनस और नेप्च्यून) शेष द्रव्यमान का 99% बनाते है. इन चार गैस से बने ग्रहों में से, बृहस्पति और शनि एक साथ मिलकर अधिक से अधिक 90% भाग को संगठित करते हैं. इसलिए, सौर प्रणाली का ठोस भाग इसके कुल भार का या कुल द्रव्यमान का 0.0001% संगठित करता हैं.

सौर मंडल के चार छोटे आंतरिक ग्रह बुध, शुक्र, पृथ्वी और मंगल ग्रह जिन्हें स्थलीय ग्रह कहा जाता है, मुख्यतया पत्थर और धातु से बने होते हैं. इसमें क्षुद्रग्रह का घेरा, चार विशाल गैस से बने बाहरी गैस दानव ग्रह, काइपर घेरा और बिखरा चक्र शामिल हैं. काल्पनिक और्ट बादल भी सनदी क्षेत्रों से लगभग एक हजार गुना दूरी से परे मौजूद हो सकता है. सूर्य से होने वाला प्लाज़्मा का प्रवाह (सौर हवा) सौर मंडल को भेदता है. यह तारे के बीच के माध्यम में एक बुलबुला बनाता है जिसे हेलिओमंडल कहते हैं, जो इससे बाहर फैल कर बिखरी हुई तश्तरी के बीच तक जाता है.

सौर मंडल का गठन

सौरमंडल का गठन एक विशाल आणविक बादल के छोटे से हिस्से के गुरुत्वाकर्षण पतन के साथ 4.6 अरब साल पहले शुरू होने का अनुमान किया जाता है. अधिकांश द्रव्यमान केंद्र में एकत्र हुआ, सूर्य को बनाया, जबकि बाकी एक प्रोटोप्लेनेटरी डिस्क में सिमट गया जिसमे से ग्रहों, चन्द्रमाओं, क्षुद्रग्रहों और अन्य छोटे सौरमंडलीय निकायों का निर्माण हुआ. आदिग्रह चक्र या प्रोटोप्लैनॅटेरी डिस्क या प्रॉपलिड एक नए जन्में तारे के इर्द-गिर्द घूमता घनी गैस का चक्र होता है. कभी-कभी इस चक्र में जगह-जगह पर पदार्थों का जमावड़ा हो जाने से पहले धूल के कण और फिर ग्रह जन्म ले लेते हैं.

DoThe Best
By DoThe Best May 16, 2015 17:36
Write a comment

No Comments

No Comments Yet!

Let me tell You a sad story ! There are no comments yet, but You can be first one to comment this article.

Write a comment
View comments

Write a comment

<

13 + nine =