उपराष्ट्रपति एम. हामिद अंसारी ने ‘लोकेल,एवरीडे इस्लाम और मॉडर्निटी’ पुस्तक का विमोचन किया

DoThe Best
By DoThe Best July 22, 2015 12:45

लोकेल,एवरीडे इस्लाम और मॉडर्निटी (Locale, everyday Islam and modernity): एम. रईसुर्ररहमान

उपराष्ट्रपति एम. हामिद अंसारी ने 20 जुलाई 2015 को नई दिल्ली में आयोजित एक समारोह में एम. रईसुर्ररहमान द्वारा लिखित पुस्तक ‘लोकेल, एवरीडे इस्लाम और मॉडर्निटी’ का विमोचन किया.

‘लोकेल, एवरीडे इस्लाम और मॉडर्निटी’ पुस्तक वास्तव में कस्‍बों का इतिहास है. पुस्तक के माध्यम से इतिहास में जाकर यह पता लगता है कि कस्बों  की संख्या अचानक कैसे कम होने लगी और ये कैसे अचानक गायब होने लगे. यह पुस्तक औपनिवेशिक भारत को अत्याधिक बुद्धिजीवी और सांस्कृतिक गतिविधि के एक महत्वहपूर्ण और आकर्षक रूप में प्रस्तुत करती है. पुस्तक में बताया गया है कि मुस्लिमों में आधुनिकता का उद्भव उनके औपनिवेशिक मिलन के दौरान एक प्रक्रिया थी जिसमें कस्बा  निवासी सक्रिय एजेंट थे और इस्लाम जिसका उद्भव हुआ था वह रोजमर्रा का जीवन था. इस पुस्तक के जरिये लेखक ने बताया है कि क्यों स्थानीय निवासी प्रमुख पहचान सूचक बन गए थे और क्यों कस्बे अतीत की यादें दिलाते रहे हैं.

विदित हो कि इस पुस्तक के लेखक ‘एम. रईसुर्ररहमान’ अमरीका स्थित ‘वेक फॉरेस्टल यूनिवर्सिटी, विन्ट्हो-सेलम’ के इतिहास विभाग में एसोसिएट प्रोफेसर के पद पर कार्यरत हैं.

DoThe Best
By DoThe Best July 22, 2015 12:45
Write a comment

No Comments

No Comments Yet!

Let me tell You a sad story ! There are no comments yet, but You can be first one to comment this article.

Write a comment
View comments

Write a comment

<

five − four =