दुनिया की पहली जीरो कार्बन सिटी देख पीएम ने लिखा ‘Science of Life’

DoThe Best
By DoThe Best August 17, 2015 12:22

दुनिया की पहली जीरो कार्बन सिटी देख पीएम ने लिखा ‘Science of Life’

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज अपनी यूएई की यात्रा के दूसरे दिन मस्दर की हाईटैक सिटी देखने पहुंचे। यहां पर उन्होंने न सिर्फ नेक्स्ट जनरेशन की टाउन प्लानिंग के बारे में जानकारी हासिल की बल्कि यहां मौजूद तकनीक की भी जानकारी ली। यहां तकनीक के सफल इस्तेमाल करने से खुश हुए मोदी ने विजिटर्स बुक में “Science of Life” लिखा । यहां पर अपने अनुभवों को बांटते हुए उन्होंने कहा कि वह अब तक बीआरटी के बारे में ही सुनते आए थे, लेकिन पीआरटी (प्राइवेट रेपिड ट्रांजिट) के बारे में उन्होंने यहां पर आकर ही जाना है।

यहां पर जानकारी हासिल करने के साथ ही पीएम मोदी ने इलैक्ट्रिक कार की सवारी भी ली जो सौर ऊर्जा से संचालित होती है। इस दाैरान मोदी ने वहां मौजूद लोगों का हाथ हिलाकर सभी का अभिनंदन भी किया। इस मौके पर उन्होंने डिजिटल साइन बोर्ड पर अपनी मौजूदगी के तौर पर अपने हस्ताक्षर भी किए। इसके बाद उन्होंने यहां पर प्रमुख उद्योगपतियों से मुलाकात की। उन्होंने कहा कि निवेशकों की परेशानियों को हल करने के लिए भारत सरकार हर जरूरी उपाय करेगी। उन्होंने दोनों देशों के बीच निवेश को बढ़ाने की इच्छा को बढ़ाने की भी बात कही। पीएम मोदी ने कहा कि आज पूरा विश्व इस बात को जानता है कि भारत दुनिया की सबसे उभरती हुई अर्थव्यवस्था है। यहां पर दुनियाभरा के निवेशकों के लिए कई संभावनाएं हैं।

पढ़ें: यूएई में भी दिखाई दिया पीएम माेदी का सेल्फी क्रेज

उद्योगपतियों को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि देश की 125 करोड़ की आबादी सिर्फ एक बाजार ही उपलब्ध नहीं कराती है बल्कि निवेशकों को कई अवसर भी प्रदान करती है। पीएम ने कहा कि भारत को जरूरत है ऐसी तकनीक की जिससे तेज और बेहतर कस्ट्रक्शन की जा सके। अपनी बात को आगे बढ़ाते हुए उन्होंने भारत में बढ़ती मकानों की जरूरत की भी बात उद्योगपतियों के सामने रखी।

अपनी यात्रा के अंतिम चरण में वह आज दुबई के क्रिकेट स्टेडियम में भारतीयों को संबोधित भी करने वाले हैं। इसके लिए करीब 50 हजार से अधिक लोगों ने अपना रजिस्ट्रेशन करवाया है। इसको देखते हुए यहां पर आने वाले दर्शकों को कैमरा, बैग इत्यादि वस्तुएं लाने से मना कर दिया गया है।

DoThe Best
By DoThe Best August 17, 2015 12:22
Write a comment

No Comments

No Comments Yet!

Let me tell You a sad story ! There are no comments yet, but You can be first one to comment this article.

Write a comment
View comments

Write a comment

<

four × one =