विश्व विख्यात व्यक्तित्व

DoThe Best
By DoThe Best June 19, 2015 11:01

अब्दुल गफ्फार खान- ‘फ्रंटियर गाँधीÓ के नाम से प्रसिद्ध; स्वतंत्रता संग्राम के दौरान ‘नॉर्थ ईस्ट फ्रंटियर प्रॉविंसÓ के प्रमुख नेता। ‘खुदाई खिदमतगारÓ नामक संगठन के संस्थापक।

 

  • अब्दुल रहीम खान-ए-खानं- अकबर के  सेनापति व नव रत्नों में से एक। प्रमुख मध्यकालीन भक्ति कवि।
  • अबुल फजल (1551-1602 ई.)- अकबर के प्रमुख सलाहकार व सरकारी इतिहासकार। उन्होंने ‘आइने अकबरीÓ व ‘अकबरनामाÓ लिखा।
  • अहिल्या बाई- इंदौर के महाराजा मल्हार राव होल्कर की विधवा बहू जिन्होंने 1764-1765 तक राज्य पर शासन किया।
  • अहमद शाह अब्दाली- अफगानिस्तान का शासक जिसने भारत पर सात बार आक्रमण किया, जिसमें 1761 में पानीपत के युद्ध में मराठों की पराजय प्रमुख है।
  • अजातशत्रु- विंबसार का पुत्र और मगध के हरयंका वंश का द्वितीय शासक।
  • अकबर (1542-1605 ई.)- मुगल साम्राज्य का महानतम शासक। उसने मुगल साम्राज्य का विस्तार किया और उसे मुख्य रूप से धार्मिक सहिष्णुता और राजपूतों के साथ मित्रतापूर्ण सम्बंधों के लिए जाना जाता है। उसने एक नए धार्मिक पंथ ‘दीन-ए-इलाहीÓ की स्थापना की।
  • अल बरूनी (970-1039 ई.)- प्रसिद्ध लेखक जो महमूद गजनवी के साथ भारत आया और भारत पर विश्व प्रसिद्ध किताब ‘किताब-उल-हिंदÓ लिखी।
  • अलाउद्दीन बहमन शाह- बहमनी राज्य के संस्थापक।
  • अलाउद्दीन खिलजी- दिल्ली सल्तनत का सबसे सक्षम शासक जिसने मूल्य नियंत्रण प्रणाली लागू की। इसके शासनकाल के दौरान दिल्ली सल्तनत का सबसे ज्यादा विस्तार हुआ।
  • अलबुकर्क (1453-1515 ई.)- भारत में पुर्तगाली वायसराय। 1510 ई. में उसने गोवा व दीव पर अधिकार जमाया।
  • अल्बर्ट आइंस्टीन (1879-1955 ई.)- न्यूटन के बाद महानतम् वैज्ञानिक। 1905 में ‘क्वांटम सिद्धांतÓ का प्रयोग करके ‘फोटो विद्युत प्रभावÓ की व्याख्या की। द्रव्यमान व ऊर्जा के मध्य सम्बंध स्थापित करने के लिए श्व=द्वष्२ समीकरण का प्रतिपादन किया। ब्राऊनियन गति की व्याख्या करके परमाणु सिद्धांत की पुष्टिï की। सापेक्षता के विशिष्टï सिद्धांत (Special Theory of relativity) का प्रतिपादन किया। 1916 में सापेक्षता के सामान्य सिद्धांत (General theory of relativity) का प्रकाशन। 1921 में नोबेल पुरस्कार।
    • एलेन ऑक्टोवियन ह्यूम (1829-1912 ई.)- ब्रिटिश सरकार में सिविल सर्र्वेंट जिन्होंने  भारतीय राष्टरीय कांग्रेस की स्थापना में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।
    • अमीर खुसरो (1255-1325 ई.)- इनको ‘पैरेट ऑफ इंडियाÓ कहा जाता है। वे प्रसिद्ध साहित्यकार, इतिहासकार व संगीतज्ञ थे। सूफी संत हजरत निजामुद्दीन औलिया के शिष्य के रूप में प्रसिद्ध।
    • अर्दशीर- 226 ई. में ईरान में सस्सानिद वंश के संस्थापक।
    • अलेक्जेंडर ग्राहम बेल (1847-1922 ई.)- स्कॉटिश अमेरिकी, जिसने टेलीफोन का आविष्कार किया।
    • अरस्तू (384-322 ई. पू.)- ग्रीक दार्शनिक, साहित्यकार व वैज्ञानिक। सिकंदर महान के शिक्षक व प्लेटो के शिष्य। उन्होंने तर्कशास्त्र (Logic) की स्थापना की।
    • आर्यभट्ट (476-520 ई.)- भारतीय खगोलशास्त्री व गणितज्ञ जो चंद्रगुप्त विक्रमादित्य के नौ रत्नों में से एक थे। उन्हें बीजगणित (algebra) के आविष्कार का श्रेय है। वे पहले खगोलशास्त्री थे जिन्होंने  बताया कि पृथ्वी अपने अक्ष पर घूमती है।
    • अशोक महान (शासन 269-232 ई. पू.)- प्राचीन भारत का महानतम शासक। 261 ई. पू. में कलिंग युद्ध के पश्चात् उसने हिंसा का मार्ग छोड़कर बौद्ध धर्म अपना लिया।
    • अश्वघोष- कुषाण सम्राट कनिष्क के अध्यात्मिक गुरू, जिन्होंने प्रसिद्ध बौद्ध ग्रंथ ‘बुद्धचरितम्’ की रचना की।
    • अतातुर्क कमाल (1881-1938 ई.)- तुर्की जनरल व राजनीतिज्ञ। उन्होंने तुर्की में खिलाफत का अंत करके वहाँ गणतंत्र की स्थापना की और तुर्की को एक आधुनिक धर्मनिरपेक्ष देश के रूप में स्थापित किया।
    • आंद्रे मेरी एम्पियर (1775-1836 ई.)- फ्रांसीसी वैज्ञानिक जिसने एम्पियर के नियमों का प्रतिपादन किया। विद्युत धारा की इकाई का नामकरण इन्हीं पर किया गया है।
    • अलेक्जेंडर फ्लेमिंग (1881-1955 ई.)- स्कॉटिश वैज्ञानिक जिन्होंने प्रथम एंटीबायोटिक ‘पेनीसिलिन’ की खोज 1928 में की।
    • ऑर्थर कॉम्पटन (1892-1962 ई.)- अमेरिकी भौतिकविद् जिन्हें 1927 में ‘कॉम्पटन प्रभाव’ (Compton Effect) की खोज के लिए नोबेल पुरस्कार प्रदान किया गया। ‘कॉम्पटन प्रभाव’ से ही प्रकाश के द्विस्वभाव(Dual nature) की जानकारी हुई।
    • अर्नेस्ट रदरफोर्ड (1871-1937)- प्रसिद्ध भौतिकविद जिन्होंने परमाणु की संरचना की खोज की जिससे नाभिकीय युग (Nuclear Age) की शुरुआत हुई।
    • अल्फ्रेड नोबेल (1833-1896 ई.)- स्वीडिश रसायनविद व आविष्कारक। इन्होंने डाइनामाइट का आविष्कार किया और इन्हीं के नाम से चिकित्सा, साहित्य, अर्थशास्त्र, भौतिकी, रसायनशास्त्र और शांति के लिए प्रत्येक वर्ष नोबेल पुरस्कार प्रदान किया जाता है।
    • ऑगस्टस (63 ई. पू. – 14 ई.)- प्रथम रोमन सम्राट। उन्होंने मिस्र पर विजय प्राप्त की और रोम में नैतिक धार्मिक सुधारों को लागू किया।
    • आर्कमिडीज़ (287-212 ई. पू.)- ग्रीक के प्रसिद्ध गणितज्ञ जिनको ‘उत्प्लावन के सिद्धांतों (Principle of buoyancy) के प्रतिपादन का श्रेय है।

 

DoThe Best
By DoThe Best June 19, 2015 11:01
Write a comment

No Comments

No Comments Yet!

Let me tell You a sad story ! There are no comments yet, but You can be first one to comment this article.

Write a comment
View comments

Write a comment

<

nine − 4 =